चाहते हैं अच्छे नंबर और बढ़िया नौकरी, इस समय करें पढ़ाई, जरूर मिलेगी सफलता

कोलकाता : इन दिनों सभी विद्यार्थी परीक्षाओं की तैयारी में लगे है फिर वह चाहे हाईस्कूल, इंटरमीडिएट हो या फिर यूनिवर्सिटी अथवा कंपटीटिव एग्जाम। छात्र हो या छात्रा सभी यह चाहते हैं कि उनके परीक्षाओं में अच्छे अंक आए, मेरिट लिस्ट में उनका नाम आए और इसके लिए वह कठिन मेहनत भी कर रहे हैं। कुछ विद्यार्थियों की समस्या है को वह जो कुछ भी याद करने का प्रयास करते हैं, पढ़ते समय तो ऐसा लगता है कि सब कुछ याद हो गया किंतु कुछ देर बाद या एग्जामिनेशन हाल में जाते ही दिमाग से सब साफ हो जाता है, उन्हें कुछ याद ही नहीं रहता है।
विद्यार्थियों को अपनी याददाश्त दुरुस्त रखनी है तो इसके लिए जहां थोड़ा समय ईश्वर आराधना को देना होगा। वहीं, कुछ ऐसी बातों को याद रखना होगा, जो मेमोरी बढ़ाने के लिए बहुत जरूरी हैं। जो विद्यार्थी अपनी एकाग्रता और याददाश्त बढ़ाना चाहते हैं, उनको प्रतिदिन जो पहला काम करना है, वह है ब्रह्म मुहूर्त में जागना। प्रातः जागने के बाद नित्य कर्म से मुक्त होने के बाद किसी ऐसे स्थान पर पढ़ने के लिए बैठना चाहिए, जहां पर प्राकृतिक वायु आती हो। सुबह प्राकृतिक वायु में पॉजिटिव एनर्जी का स्तर काफी ऊंचा रहता है। इस एनर्जी लेवल में बैठकर पढ़ने से जहां एक ओर आपकी एकाग्रता बढ़ती है। वहीं, आपकी याददाश्त में भी वृद्धि होती है। आप जो कुछ भी पढ़ते है वह आसानी से याद होता जाता है और इस तरह आपके कोर्स के कठिन विषय भी आसानी से समझ में आते जाते हैं। अनुकूल पढ़ाई और कड़ी मेहनत के बल पर ही कोई विद्यार्थी परीक्षा में सफलता प्राप्त कर पाता है। ब्रह्म मुहूर्त में जागने और पढ़ने से एकाग्रता के साथ ही पॉजिटिव एनर्जी भी खूब मिलती है, जिससे पढ़ाई में मन लगता है। पढ़ाई शुरू करने के पहले गणेश जी और माता सरस्वती का स्मरण जरूर करना चाहिए।

Visited 97 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

Wednesday Mantra : हर संकट से बचाता है बुधवार का यह उपाय, दूर होता है गृह कलेश

कोलकाता : सनातन धर्म में बुधवार का दिन भगवान गणेश को समर्पित है और इस दिन विधि-विधान के साथ गणेश जी की अराधना की जाए आगे पढ़ें »

Sankashti Chaturthi 2024 Date: द्विजप्रिय संकष्टी चतुर्थी कब है, जानें महत्‍व, पूजाविधि और …

कोलकाता : द्विजप्रिय संकष्टी चतुर्थी फाल्‍गुन मास के कृष्‍ण पक्ष की चतुर्थी को कहते हैं। द्विजप्रिय संकष्टी चतुर्थी 28 फरवरी को यानी आज है। इस आगे पढ़ें »

ऊपर