मामूली-सा दिखने वाला जूता भी बिगाड़ सकता है किस्मत, जानिए कैसे

कोलकाताः जीवन में हमारे आसपास की चीजें हम पर अपना गहरा प्रभाव डालती है। इससे ही हमें सफलता व असफलता मिलती है। ऐसे में हमारे जूते भी हमारी आने वाली जिंदगी पर असर डालते हैं। ज्योतिष शास्त्र की बात करें तो कुंडली में आंठवा भाव पैरों के तलवों से माना जाता है। ऐसे में यह हमारी किस्मत को पलटने का काम कर सकते हैं। इसलिए यह बेहद जरूरी है कि हम कैसे जूते पहनते हैं। नहीं तो ये मामूली से दिखने वाले जूते भी जिंदगी को खराब कर सकते हैं। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से…

असफलता दिलाते हैं ऐसे जूते
माना जाता है कि कपड़ों के साथ जूतों का भी ध्यान रखना चाहिए। खासतौर पर किसी शुभ काम व नौकरी तलाश करने जाने पर पुराने, फटे व गंदे जूते पहनकर जाने से बचना चाहिए। इससे असफलता मिलने का खतरा रहता है।
कार्यक्षेत्र में इस रंग के जूते ना पहनें
वास्तु के अनुसार, कार्यक्षेत्र में भूरे रंग के जूते पहनने से बचना चाहिए। माना जाता है कि इससे काम में रूकावटें आने के साथ सफलता मिलने में देरी होती है।
उपहार में देने व लेने से बचें
वास्तु के अनुसार, जूते-चप्पल कभी भी किसी को उपहार के तौर पर देने व लेने से बचना चाहिए। इसे अशुभ माना जाता है।
इस काम को करने से बचें
अक्सर लोग बाहर से आकर घर में इधर-उधर जूते फेंक देते हैं। मगर इससे दुश्मन बढ़ने के साथ कार्यों को पूरा होने में परेशानियों का सामना करना पड़ता है।
इस दिशा में रखें
वास्तु के अनुसार, घर पर कभी भी जूते-चप्पल इधर-उधर बिखेर कर नहीं रखने चाहिए। इससे वास्तुदोष उत्पन्न होने के साथ जीवन में परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसलिए इसे हमेशा शू रैक में ढक कर ही रखें। साथ ही इसे रखने के लिए घर की दक्षिण, दक्षिण-पश्चिम ,उत्तर-पश्चिम अथवा पश्चिम दिशा शुभ मानी जाती है।
रसोईघर में ना लेकर जाएं जूते
रसोईघर को पवित्र स्थान माना जाता है। ऐसे में वहां जूते-चप्पल ले जाने से बचना चाहिए। इससे घर की महिलाएं व अन्य सदस्यों की सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है। ऐसे में आप चाहे तो कपड़े की चप्पल का इस्तेमाल कर सकते हैं। साथ ही घर के पूजा स्थान में भी इसे पहन कर जाने की गलती ना करें।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

मास्क पहनने के लिए कहने पर महिला यात्री से बदसलूकी, एक गिरफ्तार

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : ऑटो में बिना मास्क के सफर कर रहे व्यक्ति को मास्क पहनने को कहना एख महिला को काफी महंगा पड़ा गया। आरोप आगे पढ़ें »

पुलिस कर्मियों में संक्रमण बढ़ते देख फिर चालू हो रहा क्वारंटाइन सेंटर

डुमुरजला पुलिस अकादमी और भवानीपुर पुलिस अस्पताल में चालू हुआ केन्द्र सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : महानगर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। पिछले आगे पढ़ें »

ऊपर