घर में जरूर लगाएं ये एक चीज, बदल सकता है आपका भाग्य

कोलकाता : फेंगशुई में विंड चाइम को शुभ माना जाता है। आमतौर पर इसका प्रयोग घर की सजावट करने के लिए किया जाता है। माना जाता है कि इसकी मंद-मंद आवाज और छनकार से घर की नकारात्मकता दूर होती है। फेंगशुई के अनुसार, विंड चाइम लगाने से घर में रिद्धि-सिद्धि आती है और गुडलक बना रहता है। फेंगशुई में विंड चाइम को शुभ माना जाता है। आमतौर पर इसका प्रयोग घर की सजावट करने के लिए किया जाता है। माना जाता है कि इसकी मंद-मंद आवाज और छनकार से घर की नकारात्मकता दूर होती है। फेंगशुई के अनुसार, विंड चाइम लगाने से घर में रिद्धि-सिद्धि आती है और गुडलक बना रहता हैछोटी-छोटी घंटियों से बनी विंड चाइम बेहद सुंदर और आकर्षक लगती हैं। मार्केट में कई तरह की विंड चाइम आती है। भारी, हल्की, बड़ी, छोटी और कई तरह की डिजाइन में बनी विंड चाइम को पवन घंटी भी कहते हैं। इसके आलावा मेटल, क्रिस्‍टल, बांस, लकड़ी और फाइबर के भी विंड चाइम बनाए जाते हैं। इन सबसे हटकर घर में मिट्टी के विंड चाइम लगाने से घर बेहद खूबसूरत लगता है।
* फेंगशुई के अनुसार, इसे घर के मुख्य दरवाजे, दरवाजे के बीच में या खिड़कियों पर लटकाया जाता है। इसे गार्डन और लॉन में छोटे पेड़-पौधों के साथ लगाना भी शुभ माना जाता है।
1- घर में विंड चाइम लगाने से निगेटिविटी दूर होती है। इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है।
2- फेंगशुई के अनुसार, घर में विंड चाइम की आवाज से सुख-समृद्धि का वास होता है तथा रिश्तों में मधुरता बनी रहती है।
3- फेंगशुई के अनुसार 5 या 7 रॉड वाली विंड चाइम को गुडलक चाइम कहते हैं। माना जाता है कि इसे घर में लगाने से आपका भाग्योदय हो सकता है।
4- फेंगशुई में विंड चाइम लगाने से वास्तु दोष से मुक्ति मिलती है।
5- फेंगशुई के अनुसार, प्लास्टिक से बनी विंड चाइम लगाना अशुभ माना जाता है। इससे नकारात्मकता बढ़ सकती है।
6- फेंगशुई के अनुसार, घर की पश्चिमी या उत्तर पश्चिमी दिशा में धातु के बने विंड चाइम लगाना शुभ होता है। इसके अलावा, दक्षिण पूर्व या दक्षिण दिशा में लकड़ी या बांस का विंड चाइम लगा सकते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

शुक्रवार को लक्ष्मी स्तुति से प्रसन्न होती हैं धन की देवी, धन से जुड़ी परेशानियां होती हैं दूर

कोलकाता : लक्ष्मी जी की कृपा सभी कष्टों को दूर करने वाली मानी गई है। 21 अक्टूबर 2021 से कार्तिक मास आरंभ हो चुका है। आगे पढ़ें »

ऊपर