अगर बीमारी नहीं छोड़ रही है पीछा तो अपनाएं ये टिप्स, परेशानी होगी दूर

कोलकाता : वास्तु शास्त्र के अनुसार हर एक चीज में सकारात्मक और नकारात्मक ऊर्जा होती है जिसका असर हमारे जीवन पर पड़ता है। कई लोग वास्तु में मनाते हैं। ऐसे में अगर आप या घर के सदस्य लगातार बीमार रहते हैं तो आपके घर में वास्तु दोष है। घर में वास्तु दोष का असर परिवार के सदस्यों पर पड़ता है। आज हम आपको ऐसे वास्तु दोष के बारे में बता रहे हैं जिसका असर आपकी सेहत पर पड़ता है। आइए बिना देर किए जानते हैं उन उपायों के बारे में। जिसे करने से आपके सेहत पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा
* अगर आपके घर के सामने कोई गड्ढा है तो इससे परिजन को मानसिक परेशानी और तनाव की समस्या होती है। उस गड्ढे को भर दें और ध्यान रखें कि घर के सामने गंदगी न हों।
* जब भी खाना खाएंं तो इस बात का ध्यान रखें कि आपका मुख उत्तर या पूर्व दिशा में होना चाहिए। ऐसा करने से आपको पेट की समस्याएं नहीं होगी। साथ ही आपका पाचन भी अच्छा रहेगा।
*अगर आपके घर के सामने कोई बड़ा पेड़ या खंबा है और उसकी छाया घर पर पड़ती है। तो इस वास्तु दोष को दूर करने के लिए घर के बाहर दोनों तरफ स्वास्तिक का चिन्ह बनाएं।
*वास्तु के अनुसार, घर के बेडरूम में किसी भी पुरानी चीज को इकट्ठा नहीं करना चाहिए। माना जाता है कि ऐसा करने से घर में नकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। जिसकी वजह से वायरस से होने वाली बीमारिया हो सकती है। ये आपके सेहत के लिए नुकसानदायक है।
*बेडरूम पूरी तरह से बंद नहीं होना चाहिए। ऐसा होने से नाकारत्मक उर्जा का प्रभाव पड़ता है। बेडरूम के सामने कभी भी आईना नहीं होना चाहिए। जो लोग मानसिक परेशानी से गुजर रहे हैं उन्हें बीम से दूर रहना चाहिए। इसके अलावा शयन कक्ष में कभी भी भगवान की कोई मूर्ति या तस्वीर नहीं लगाएं।
*घर के दक्षिण कोणे में रोजाना लाल रंग की बल्ब और मोमबत्ती जलाना जरूरी होता है। इससे परिवार के सदस्यों की सेहत अच्छी रहती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

रोजाना आ रहे हैं सैकड़ों शव, चरमरा रही है श्मशान घाटों की व्यवस्था

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोरोना की दूसरी लहर का प्रकाेप कुछ इस कदर बढ़ा है कि श्मशान घाटों में रोंगटे खड़े करने वाली तस्वीरें देखने को आगे पढ़ें »

ट्रैफिक गार्ड के ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर का मरम्मत कराएगी पुलिस

कोविड के खिलाफ जंग में लालबाजार ने कसी कमर सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोरोना की दूसरी लहर के दौरान शहरवासियों की हालत खराब है। अस्पताल में बेड आगे पढ़ें »

ऊपर