घर के मेन गेट से खुलता है किस्मत का दरवाजा

नई दिल्ली : वास्तु शास्त्र के अनुसार किसी भी घर के मुख्य द्वार यानी मेन गेट का खास महत्व होता है। मुख्य दरवाजे से ही घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश होता है। वास्‍तु के आधार पर घर की बनावट तब तक अधूरी मानी जाती है, जब तक मुख्य दरवाजा सही आकार-प्रकार एवं उचित दिशा में न हो।

वास्तु के आधार पर माना जाता है कि परिवार की आर्थिक स्थिति के साथ परिवार की सुख एवं खुशहाली भी बहुत हद तक घर के मुख्य दरवाजे पर आधारित होती है। आइए वास्तु के अनुसार जानते हैं कि घर का दरवाजा कैसे आपकी किस्मत खोल सकता है।

* वास्तु के मुताबिक घर का मुख्य दरवाजा जमीन से रगड़ खाकर खुलना अच्छा नहीं माना जाता है। इससे आर्थिक मामले में संघर्ष एवं धन कमाने के लिए अधिक परिश्रम करना पड़ता है।

* घर का मुख्य दरवाजा हमेशा अंदर की ओर खुलना चाहिए। दरवाजा बाहर की ओर खुलना शुभ नहीं होता। इससे पॉजिटिव ऊर्जा का आगमन रुकता है। घर की आर्थिक स्थिति पर बुरा प्रभाव पड़ने के साथ खर्च बढ़ते हैं।

* दरवाजा खोलते या बंद करते समय आवाज नहीं करना चाहिए। यदि खोलने एवं बंद करने में दरवाजा आवाज करता है तो इसे अशुभ माना जाता है। इससे घर में निगेटिव एनर्जी बढ़ती है। ऐसी स्थिति में तुरंत दरवाजे की मरम्मत करवानी चाहिए।

* घर के मुख्य द्वार पर खंभे या अन्य किसी चीज की छाया पड़ते रहना भी शुभ नहीं होता। इससे निर्धनता आती है। यदि मुख्य द्वार पर किसी प्रकार की छाया पड़ रही हो तो ऐसा दरवाजे के दोनों तरफ कुमकुम, रोली, केसर, हल्दी आदि को घोलकर उनसे स्वास्तिक या ॐ का शुभ चिन्ह बनाएं।

* दरवाजे के आस पास डस्टबिन, गंदगी और कबाड़ नहीं रखना चहिए। इससे पारिवारिक उन्नति बाधित होती है। धन हानि एवं नुकसान भी होता है।

* मुख्य द्वार के आस-पास कांच का टूटा या चटका हुआ सामान नहीं रखना चाहिए। घर के मेन गेट पर ऐसी वस्तुएं रखने से पारिवारिक रिश्तों में कलह बढ़ती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल का सबसे बड़ा मल्टिलेवल कार पार्किंग बन रहा अलीपुर में

 * एक साथ 300 से अधिक कार पार्किंग की क्षमता * इसी महीने उद्घाटन की संभावना * कार, 2 व्हीलर से लेकर बसों की भी हो सकेगी आगे पढ़ें »

किचन में इन नियमों के साथ रखें मां अन्नपूर्णा की तस्वीर, बदल सकती है आपकी तकदीर

कोलकाता : हिन्दू धर्म में मां अन्नपूर्णा का अत्यधिक महत्व है। मां अन्नपूर्णा को धन-धान्य की देवी माना जाता है। ज्योतिष और वास्तु शास्त्र में आगे पढ़ें »

ऊपर