उत्तर प्रदेश का बजट जनता की आकांक्षाओं के साथ छलावा : मायावती

नयी दिल्ली : बसपा की अध्यक्ष मायावती ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश सरकार के बजट को जनता की अपेक्षाओं के साथ छलावा बताते हुए कहा है कि बजट में सरकार ने जो बड़े-बड़े वादे और दावे किये हैं वे पूरी तरह से खोखले हैं।
राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने ट्वीट कर कहा, ‘उप्र सरकार के इस बजट से प्रदेश का विकास और यहां की 22 करोड़ जनता का हित एवं कल्याण संभव नहीं है।’ उन्होंने कहा, ‘यही बुरा हाल इनके (योगी सरकार) पिछले बजटों का भी रहा है, जो जनहित एवं जनकल्याण के मामले में भाजपा की कमजोर इच्छाशक्ति का परिणाम है।’ मायावती ने एक अन्य ट्वीट में सरकार की मंशा पर सवाल उठाते हुए कहा, ‘केंद्र की तरह उप्र की भाजपा सरकार ऐसे दावे एवं वादे क्यों करती है जो लोगों को आम तौर पर जमीनी हकीकत से दूर तथा विश्वास से परे लगते हैं?’

akhilesh yadav
अखिलेश यादव

बजट में विजन और रोडमैप का अभाव : अखिलेश यादव
समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा पेश किए गए बजट में विजन और रोडमैप का अभाव है।
अखिलेश यादव ने यहां संवाददाताओं से कहा कि योगी सरकार द्वारा वर्ष 2020-21 के लिये वित्तीय खाका प्रस्तुत करने के साथ यह साबित हो गया है कि प्रदेश सरकार के पास कोई नयी योजना नहीं है। योजनाओं का नाम बदल देने से कोई काम नहीं होता है। योगी सरकार ने लोगों की समस्याओं का अध्ययन करने के लिए कुछ नहीं किया है। बजट सिर्फ कागजों का एक बंडल है जिसमें कोई प्रतिबद्धता नहीं है। उन्होंने दावा किया, सरकार ने राज्य में निवेश बढ़ाने के लिये कोई प्रोत्साहन नहीं दिया है। उन्होंने सवाल किया कि कैसे मान लिया जाय कि राज्य में अब तक कोई निवेश नहीं हुआ है। सपा अध्यक्ष ने पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का मुद्दा उठाते हुए कहा कि सपा सरकार के समय की योजनाओं को अब भाजपा सरकार सिर्फ इसका नाम बदलकर सारा श्रेय ले रही है।

लखनऊ में कांग्रेस नेता विरोध प्रदर्शन करते हुए

बजट उत्तर प्रदेश के किसानों और युवाओं के साथ धोखा : कांग्रेस
उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने योगी सरकार द्वारा पेश आम बजट को आंकड़ों की बाजीगरी बताते हुए इसे प्रदेश के किसानों, युवाओं, महिलाओं और गरीबों के जले पर नमक छिड़कने जैसा करार दिया है।
अजय कुमार लल्लू ने कहा कि 450 रुपये प्रति क्विंटल गन्ने का मूल्य देने की घोषणा करके सत्ता में आने वाली भाजपा तीन वर्षों में मात्र गन्ने के मूल्य में 10 रुपये की ही वृद्धि कर पायी है। युवा बेरोजगारों की तादाद पिछले दो वर्षों में 12.5 लाख बढ़ गयी, लेकिन उनके लिये नये रोजगार देने के बजाए आज के बजट में सेवानिवृत्त शिक्षकों को माध्यमिक शिक्षा बोर्ड में नौकरी देने की घोषणा बेरोजगार युवाओं के साथ विश्वासघात है। ‘वहीं कौशल विकास योजना भी छलावा साबित हुई।’ लल्लू ने 18 मंडलों में अटल आवासीय विद्यालयों की स्थापना की घोषणा को भी झूठ का पुलिंदा करार देते हुए इसे पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी द्वारा शुरू किये गये नवोदय विद्यालयों को खत्म करने की साजिश बताया। उन्होंने कहा कि कृषि पर लागत कम करने, खाद बीज, पानी, कृषि यंत्र, कीटनाशक, बिजली वगैरह के दामों में कमी का कोई प्रावधान बजट में नहीं किया गया है जबकि पिछले तीन वर्षों में अनिवार्य कृषि उपयोग की इन चीजों के दामों में 50 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि हो चुकी है। इसके मुकाबले किसानों के उपज मूल्य में की गयी बढ़ोतरी नगण्य है। लल्लू ने कहा कि शिक्षा मित्र, आंगनबाड़ी, रसोइया, आशा बहू, रोजगार सेवक, चौकीदार, होमगार्ड, अनुदेशक एवं मदरसा शिक्षकों के लिए बजट में कुछ भी नहीं है जो अत्यंत निराशाजनक है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वेस्टइंडीज जीत के करीब, इंग्लैंड ने दूसरी पारी में 313 रन बनाए

साउथैम्पटन : इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट में वेस्टइंडीज जीत की ओर है। मैच के पांचवें दिन टी ब्रेक तक मेहमान टीम ने 4 विकेट के आगे पढ़ें »

पगबाधा का फैसला सिर्फ और सिर्फ डीआरएस से हो : तेंदुलकर

नयी दिल्ली : महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने अंपायरों के फैसलों की समीक्षा प्रणाली (डीआरएस) से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) को ‘अंपायर्स कॉल’ को हटाने आगे पढ़ें »

ऊपर