उत्तर प्रदेश : रामपुर उपचुनाव में आमने सामने होंगी डिंपल यादव और जयाप्रदा?

Jaya Prada, Dimple Yadav

लखनऊ : समाजवादी पार्टी के अध्‍यक्ष अखिलेश यादव की पत्‍नी और कन्नौज की पूर्व सांसद डिंपल यादव उत्तर प्रदेश में होने वाले उपचुनाव के मैदान में उतर सकती हैं। वहीं भारतीय जनता पार्टी की ओर से जयाप्रदा को प्रत्याशी बनाया जा सकता है। चर्चा है की सपा मुस्लिम बहुल विधानसभा सीट रामपुर से डिंपल को टिकट दे सकती है। यह सीट आजम खान के सांसद चुने जाने की वजह से खाली हुई है। रामपुर को सपा सांसद आजम का गढ़ माना जाता है। बता दें कि आने वाले समय में उत्तर प्रदेश की 12 विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव होने वाले हैं।
आजम खान ने दिया है रामपुर से इस्तीफा
बता दें कि रामपुर विधानसभा सीट से आजम नौ बार विधायक रह चुके हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव में वह पहली बार रामपुर से जीतकर संसद पहुंचे हैं। इस वजह से उन्‍हें विधानसभा से इस्‍तीफा देना पड़ा। माना जा रहा है कि इस साल के अंत में होने वाले उपचुनाव में इस विधानसभा सीट से आजम की पुत्रवधु को मैदान में उतारा जाएगा, लेकिन डिंपल को इस सीट पर उतारने के ज्यादा आसार दिख रहे हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार डिंपल को रामपुर सीट से प्रत्याशी बनाए जाने को लेकर पार्टी में मंथन चल रहा है। इस पूरे मामले में अंतिम फैसला सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को करना है।
जयाप्रदा को फिर से उतार सकती है बीजेपी
वहीं कयास लगाया जा रहा है कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी), अपने उम्मीदवार के तौर पर डिंपल को टक्कर देने के लिए लोकसभा चुनाव में पार्टी की प्रत्याशी रही फिल्‍म अभिनेत्री जयाप्रदा को मौका दे सकती है। गौरतलब है कि जयाप्रदा नामांकन से कुछ वक्‍त पहले ही बीजेपी में शामिल हुई थीं। लोकसभा चुनाव में भले ही जयाप्रदा को आजम खान से हार मिली हो, लेकिन दोनों के बीच चल रही कड़वाहट सबके सामने खुलकर सामने आ गई थी।

गौरतलब है कि चुनाव के दौरान आपत्तिजनक टिप्‍पणी करने पर आजम पर चुनाव आयोग ने दो बार कार्रवाई की थी। पार्टी सूत्रों की मानें तो इस बार विधानसभा उपचुनाव में बीजेपी जयाप्रदा को रामपुर से प्रत्याशी बना सकती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Nirmala-Sitharaman

आम बजट में टैक्स सुधारों के लिए वित्त मंत्रालय ने संगठनों से मांगे सुझाव

नई दिल्ली : आम बजट में टैक्स सुधारों के लिए वित्त मंत्रालय उद्योग जगत और उससे जुड़े विभिन्न संगठनों-संस्थाओं से राय ली जा रही है। आगे पढ़ें »

Supreme court

केवल सबरीमाला में ही महिलाओं का प्रवेश वर्जित नहीं, अन्य धर्मों में भी है ऐसा- रंजन गोगोई

नई दिल्ली : सबरीमाला मामले में पुनर्विचार याचिका पर उच्चतम न्यायालय ने सात न्यायाधीशों की पीठ के पास यह मामला भेज दिया है। यह फैसला आगे पढ़ें »

ऊपर