यूपी में बीजेपी-सपा कार्यकर्ताओं में कई जगह पर भिड़ंत, सीतापुर में फायरिंग

उत्तर प्रदेश : उत्तर प्रदेश में ब्लॉक प्रमुख के चुनावों को लेकर हलचल जारी है। गुरुवार को नामांकन दाखिल करने के दौरान प्रदेश के अलग-अलग जिलों में जमकर हंगामा हुआ। सीतापुर, श्रावस्ती, अंबेडकरनगर समेत कई जिलों में झड़प, हाथापाई और फायरिंग तक की नौबत आ गई, इन अलग-अलग घटनाओं में कई लोग घायल भी हुए।

सीतापुर में फायरिंग, तीन घायल

उत्तर प्रदेश के सीतापुर में गुरुवार को नामांकन के दौरान राउंड फायरिंग की गई। नामांकन पत्र ना मिलने को लेकर दो पक्षों में बवाल हो गया। जानकारी के मुताबिक, बीजेपी और निर्दलीय प्रत्याशियों के समर्थकों में भिड़ंत हुई, जिसके बाद फायरिंग की गई। इसमें एक युवक समेत कुल तीन लोग घायल हुए हैं, जिन्हें लखनऊ रेफर किया गया है।

नामांकन के दौरान ये सब बवाल पुलिस के सामने ही हुई, जिसके बाद ब्लॉक में भगदड़ की नौबत आ गई। गुस्साए समर्थकों ने अब एनएच 24 पर जाम लगा दिया है। बता यें कि ये पूरा मामला सीतापुर के कमलापुर थाना क्षेत्र में कसमंडा ब्लॉक का है।

श्रावस्ती में सपा कार्यकर्ताओं और पुलिस में भिड़ंत

श्रावस्ती में नामाकंन पत्र को लेकर जमकर बवाल हुआ। यहां नामाकंन पत्र ना मिलने पर समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा जमकर हंगामा किया गया। समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी और उनके समर्थक इस दौरान इकौना के ब्लॉक परिसर में जाने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन पुलिस ने उन्हें रोकना चाहा। इस बीच दोनों पक्षों में जमकर झड़प हुई। कार्यकर्ताओं का आरोप है कि समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी को नामांकन पत्र नहीं दिया गया, जिसके बाद उन्होंने नारेबाजी की।
माहौल इतना बिगड़ गया है कि पुलिस, पीएसी की तैनाती करनी पड़ी है। यहां पर नेताओं का जमावड़ा शुरू हो गया है और पूर्व विधायक, पूर्व जिलाध्यक्ष भी मौके पर पहुंचे हैं। श्रावस्ती जिले के इकौना ब्लॉक में हुई इस घटना में अब कई सपा कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

घर के मेन गेट पर सिंदूर लगाना माना जाता है बहुत शुभ, क्योंकि…

कोलकाताः सिंदूर भगवान श्रीराम के परम भक्त हनुमान जी को भी बहुत प्रिय है। यही वजह है कि प्रति मंगलवार और शनिवार को हनुमान जी आगे पढ़ें »

ऊपर