खराब सेहत से परेशान हैं तो हर रविवार को दें सूर्य अर्घ्य …

कोलकाता : रविवार का दिन सूर्यदेव को समर्पित होता है। धार्मिक मान्यता है कि रविवार के दिन सूर्यदेव रोज के दिनों की अपेक्षा कहीं ज्यादा तेज और ऊर्जा लिए हुए होते हैं। अगर आपकी सेहत अक्सर खराब रहती है, करियर में रुकावटें आ रही हैं, उस स्तर का मान सम्मान नहीं मिल पाता जिसके आप अधिकारी हैं तो हर रविवार को सूर्यदेव को अर्घ्य देने का नियम बनाइए। कुछ ही दिनों में आपकी समस्याओं का समाधान हो जाएगा। जानिए रविवार से जुड़ी तमाम ऐसी बातें जिनसे आप अब तक अंजान हैं…
1. ज्योतिष के अनुसार माना जाता है कि अगर आपको मान सम्मान नहीं मिलता है या आपकी सेहत अक्सर खराब रहती है और नौकरी में संतुष्टि नहीं मिल पा रही है तो ये आपकी कुंडली में सूर्य के कमजोर होने का संकेत है। ऐसे लोगों को रविवार के दिन सूर्यदेव का व्रत करना चाहिए। अगर व्रत संभव न हो तो व्रतकथा, आदित्य हृदय स्तोत्र पढ़ लें या सुन लें और सूर्यदेव को अर्ध्य दें।
2. रविवार के दिन सूर्य को अर्घ्य देने से जीवन की तमाम समस्याएं तो दूर होती ही हैं, साथ ही सूर्य की किरणों के प्रभाव से शरीर में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।
3. रविवार के दिन सूर्य उपासना के लिए आप गायत्री मंत्र का भी जाप कर सकते हैं। गायत्री मंत्र को रविवार का विशेष मंत्र माना जाता है। ये सूर्य के आपकी कुंडली में प्रबल बनाता है। कम से कम गायत्री मंत्र की एक माला जाप करें।
4. भादों और कार्तिक मास में रविवार के दिन का विशेष महत्व होता है। इन महीनों में सूर्यदेव और विष्णु भगवान की आराधना से वैसा ही पुण्य प्राप्त होता है, जैसा सावन के सोमवार में शिव जी की आराधना करने से मिलता है।
5. रविवार के दिन बाल नहीं कटाने चाहिए, इससे आपका सूर्य कमजोर होता है। इस दिन नीले, काले, कत्थई और ग्रे कलर के कपड़े नहीं पहनना चाहिए।
6. सूर्य के बुरे प्रभावों से बचने के लिए हर रविवार को चावल में दूध और गुड़ मिलाकर खाएं, इससे काफी लाभ होगा।
7. प्राचीन काल से सूर्य उपासना की जा रही है। बाली, मयदानव, हनुमान जी, श्रीराम, कर्ण से लेकर तमाम लोगों ने सूर्य की विशेष उपासना से कई तरह की सिद्धियां प्राप्त की हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

चाहूं तो 3 महीने में बंगाल भाजपा को खत्म कर दूं लेकिन ऐसा नहीं करूंगा – अभिषेक

तृणमूल ऑफिस में भाजपा नेताओं की लगी है कतार तिलमिलाइये मत, असली खेल तो दिल्ली में होगा सन्मार्ग संवाददाता मुर्शिदाबाद : तृणमूल के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी ने आगे पढ़ें »

ऊपर