सीरिया पर तुर्की ने बरसाए बम, भारत ने कड़ी निंदा करते हुए कहा- क्षेत्रीय अखंडता का करें सम्मान

syria

नई दिल्ली : सीरिया से अमेरिकी सेना के हटाए जाने के फैसले के बाद ही तुर्की ने उस पर बम के गोले बरसा कर हमला कर दिया। इस हमले में आम लोगों के हताहत होने की खबरें सामने आई है। जिस पर भारत ने कड़ी निंदा करते हुए कहा कि वे तुर्की की इस कार्रवाई से चिंतित हैं और उससे सीरिया की क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करने की अपील की। हालांकि, तुर्की का दावा है कि वह कुर्द बलों और इस्लामिक स्टेट के खिलाफ कार्रवाई कर रहा है। मालूम हो कि तुर्की कुर्द लड़ाकों को आतंकी मानता है।

भारत ने तुर्की से यह कहा

सूत्रों के अनुसार विदेश मंत्रालय द्वारा जारी बयान में कहा गया कि हम उत्तर-पूर्वी सीरिया में तुर्की की ओर से एकतरफ सैन्य कार्रवाई पर चिंतित हैं। तुर्की की इस कार्रवाई से आतंकवाद के खिलाफ लड़ी जा रही लड़ाई कमजोर पड़ेगी और क्षेत्रीय स्थिरता को बिगाड़ेगी। यह मानवता और स्थानीय नागरिकों के लिए भी काफी चिंता का विषय है। मंत्रालय ने यह भी कहा कि तुर्की से हमने यह अपील है कि वे सीरिया के साथ शांति से बातचीत करके समस्या का समाधान करे।

अमेरिकी सेना के हटते ही किया हमला

बता दें कि पिछले दिनों अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सीरिया से अमेरिकी सेना को हटाने का फैसला किया था। मंगलवार-बुधवार से ही सीरिया के कुछ क्षेत्रों से अमेरिकी सेना वापस आने लगी। जिसके तुरंत बाद तुर्की की सेना ने वहां मौजूद कुर्दिश के लड़ाकों पर हमला बोलना शुरू कर दिया।

तुर्की राष्ट्रपति ने कश्मीर की तुलना फिलिस्तीन से कर डाली

भारत ने तुर्की पर विरोध ऐसे समय में जताया है जब हाल ही में तुर्की के राष्ट्रपति ने संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर का मुद्दा उठाते हुए पाकिस्तान का समर्थन किया था। तुर्की ने कई बार कश्मीर में कथित तौर पर मानवाधिकार के उल्लंघन की बात की है। साथ ही तुर्की के राष्ट्रपति ने कश्मीर की तुलना फिलिस्तीन से करने में भी पीछे नहीं रहे। इतना ही नहीं तुर्की पाकिस्तान के लिए युद्धपोत भी बना रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Twitter

ट्विटर ने कहा-विश्व के नेताओं के अकाउंट को नियमों से पूरी तरह छूट नहीं

सैनफ्रांसिस्को : ट्विटर ने कहा है कि विश्व के नेताओं को इसके उन प्रतिबंधों से पूरी तरह छूट नहीं है, जिसमें उपयोगकर्ता हिंसा की धमकी आगे पढ़ें »

Mahatma Gandhi

विश्वविद्यालय के छात्रों ने मैनचेस्टर में गांधी की मूर्ति लगाये जाने का विरोध किया

लंदन : राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की मूर्ति लगाये जाने के प्रस्ताव के खिलाफ ब्रिटेन में मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के छात्रों ने ‘मैनचेस्टर कैथेड्रल’ के बाहर एक आगे पढ़ें »

ऊपर