गुरु नानक जयंती आज; जानिए इस पर्व का महत्व

कोलकाता: गुरु नानक देव की जयंती को गुरु पर्व और प्रकाश पर्व के रूप में मनाई जाती है। इस साल गुरु नानक जयंती आज यानी 8 नवंबर को मनाई जा रही है। गुरु पर्व पर सभी गुरुद्वारों में भजन, कीर्तन होता है और प्रभात फेरियां भी निकाली जाती हैं। ऐसे में आइए जानते हैं गुरुनानक जी की जन्म तिथि व स्थान और इस पर्व का क्या है महत्व…

गुरु नानक जयंती का महत्व
गुरु नानक जयंती सिख धर्म में मनाया जाने वाला सबसे महत्वपूर्ण पर्व है। गुरु नानक जयंती के दिन गुरुद्वारों में कीर्तन दरबार सजता है। सुबह को वाहे गुरु जी का नाम जपते हुए प्रभात फेरी निकाली जाती है। साथ ही गुरुद्वारों में भक्तों के लिए लंगर का आयोजन किया जाता है।

जानिए गुरु नानक जी की जन्म तिथि और स्थान
सिखों के पहले गुरु नानक जी का जन्म 1469 में पंजाव प्रांत के तलवंडी में हुआ था। ये स्थान अब पाकिस्तान में है। इस स्थान को नानकाना साहिब के नाम से जाना जाता है। सिख धर्म के लोगों के लिए ये बहुत ही पवित्र स्थल है। गुरु नानक जी की माता का नाम तृप्ता और पिता का नाम कल्याणचंद था। नानक जी बचपन से ही अपना ज्यादातर समय चिंतन में बिताते थे। वे सांसारिक बातों का मोह नहीं रखते थे। नानक देव जी एक संत, गुरु और समाज सुधारक भी थे। उन्होंने अपना पूरा जीवन मानव हित में समर्पित कर दिया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

एनामुल हक से तिहाड़ जेल में आज सीआईडी अधिकारी करेंगे पूछताछ

मवेशी तस्करी मामले में पूछताछ करने के ‌लिए दिल्ली पहुंचे सीआईडी अधिकारी सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : मवेशी तस्करी मामले में मुख्य अभियुक्त एमानुल हक से पूछताछ के आगे पढ़ें »

बीमारियों को दूर रखता है आपके किचन में रखा लहसुन, जानिए चमत्कारी लाभ

नई दिल्ली : लहसुन में एंटी-ऑक्सीडेंट्स और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। इससे शरीर में हो रहे दर्द को कम करने में मदद मिलती है। आगे पढ़ें »

ऊपर