आज चंद्र ग्रहण के सूतक काल लगने से पहले कर लें यह 3 काम

कोलकाता: आज यानी 8 नवंबर 2022 का चंद्र ग्रहण भारत में दिखने वाला है। जो इस साल का आखिरी चंद्र ग्रहण होगा। इसलिए इसका सूतक काल भी मान्य होगा। भारतीय समयानुसार, आज का चंद्र ग्रहण भारत में शाम 5 बजकर 20 मिनट से लेकर शाम 6 बजकर 18 मिनट तक दृश्यमान होगा।

चंद्र ग्रहण से 9 घंटे पहले इसका सूतक काल लग जाएगा। यानी सुबह 9 बजकर 21 मिनट से लेकर शाम 6 बजकर 18 मिनट तक। ज्योतिषियों की मानें तो इस दिन ग्रहण का सूतक काल लगने से पहले तीन काम जरूर कर लें।

1. मंदिर के कपाट- चंद्र ग्रहण लगने से पहले सूतक काल में मंदिर के कपाट बंद कर दिए जाते हैं। ऐसा कहा जाता है कि इस अवधि में भगवान की मूर्तियों को स्पर्श करने से बचना चाहिए। ग्रहण काल में देवी-देवताओं की पूजा वर्जित होती है। इसलिए बेहतर होगा कि आप अपने घर के मंदिरों के कपाट भी बंद ही रखें। इन्हें सूतक काल के प्रारंभ से लेकर ग्रहण समापन तक बंद रखें।

2. देव दिवाली पर दीपदान- दिवाली पर सूर्य ग्रहण की तरह देव दिवाली पर चंद्र ग्रहण का संयोग बन रहा है। दरअसल देव दिवाली कार्तिक पूर्णिमा पर मनाई जाती है। कार्तिक पूर्णिमा तिथि 7 नवंबर की शाम 4 बजकर 15 मिनट से लेकर 8 नवंबर की शाम 4 बजकर 31 मिनट तक रहेगी। ऐसे में कुछ लोग ग्रहण से एक दिन पहले यानी 7 नवंबर को ही देव दिवाली मनाने की बात कर रहे हैं। चूंकि आज भी पूर्णिमा तिथि लग रही है, इसलिए बेहतर होगा कि आप चंद्र ग्रहण शुरू होने से पहले ही दीपदान की परंपरा पूरी कर लें।

3. तुलसी के पत्ते- ग्रहण काल में तुलसी के पत्तों को विशेष महत्व बताया गया है। हालांकि तुलसी के पत्तों को तोड़ने का भी एक निश्चित समय होता है। आपको न तो ग्रहण काल में तुलसी के पत्ते तोड़ने चाहिए और न ही सूतक काल में। बेहतर होगा कि आप सूतक काल से पहले ही तुलसी के पत्तों को तोड़कर रख लें और ग्रहण लगने से पहले ही उन्हें खाने में डाल दें। इससे खाद्य पदार्थ ग्रहण के दुष्प्रभाव से बचे रहते हैं और इन्हें बाद में आसानी से खाया जा सकता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

शुक्रवार को करें गुड़हल के फूल के ये उपाय, हो सकते हैं मालामाल

कोलकाता : हिंदू धर्म में कई पेड़ पौधों और फूलों का पूजन में विशेष महत्व बताया गया है। ऐसी मान्यता है कि यदि आप पूजन आगे पढ़ें »

पांशकुड़ा थाने में विस्फोट, सिविक वोलंटियर मरा

जब्त किये गये पटाखों का जखीरा रखा था थाने के सामने सन्मार्ग संवाददाता पांशकुड़ा : पूर्व मिदनापुर जिले के पांशकुड़ा थाना परिसर में गुरुवार की अपराह्न लगभग आगे पढ़ें »

ऊपर