तरक्की पाने के लिए मंगलवार के दिन इन मंत्रों को जपें और करें ये खास उपाय

कोलकाताः आज 20 सितंबर को आश्विन कृष्ण पक्ष की दशमी तिथि और मंगलवार का दिन है। दशमी तिथि आज रात 9 बजकर 26 मिनट तक रहेगी। आज दशमी तिथि वालों का श्राद्ध किया जाएगा, यानी जिनका स्वर्गवास किसी भी महीने के कृष्ण या शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को हुआ हो, उनका श्राद्ध आज किया जायेगा। दशमी तिथि का श्राद्ध करने वाले व्यक्ति को कभी लक्ष्मी की कमी नहीं होती। उसके पास हमेशा धन-संपदा बनी रहती है। साथ ही गरुड़ पुराण के अनुसार अपने पूर्वजों की स्वर्गवास तिथि के अलावा आज पुनर्वसु नक्षत्र में भी श्राद्ध करके आप लाभ उठा सकते हैं। पुनर्वसु नक्षत्र में श्राद्ध करने वाले व्यक्ति को लंबी आयु का वरदान मिलता है। साथ ही अलग-अलग शुभ फलों की प्राप्ति के लिए, जीवन में खुशहाली बनाए रखने के लिए आपको कौन से उपाय करने चाहिए।

  • अगर आपकी तमाम कोशिशों के बाद भी आपको कार्यक्षेत्र में मनचाही सफलता नहीं मिल पा रही है, तो आज के दिन सुबह स्नान आदि के बाद श्री विष्णु मंदिर जाकर भगवान को पीले रंग के पुष्प अर्पित करें। फिर भगवान से मनचाही सफलता पाने के लिए हाथ जोड़कर प्रणाम करें। आज के दिन ऐसा करने से आपको अपने कार्यक्षेत्र में मनचाही सफलता जरूर मिलेगी।
  • अगर आप जीवन में खूब तरक्की करना चाहते हैं, तो आज के दिन अपने गुरु को कुछ गिफ्ट करें। साथ ही उनके पैर छूकर आशीर्वाद प्राप्त करें। आज के दिन ऐसा करने से आप जीवन में खूब तरक्की करेंगे।अगर आपकी कोई मनोकामना लंबे समय से अधूरी पड़ी है, तो आज के दिन हरे बांस का पौधा लगाएं। साथ ही पौधे के सामने हाथ जोड़कर प्रणाम करें और अपनी मन की बात कहें। आज के दिन ऐसा करने से आपकी मनोकामना जल्द ही पूरी होगी।
  • अगर आप अपने लक्ष्य को ऊँचे मुकाम तक ले जाना चाहते हैं, तो आज के दिन मंदिर में चने की दाल दान करें। साथ ही गुरु के मंत्र का 21 बार जप करें। मंत्र है -ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: बृहस्पतये नम: आज के दिन ऐसा करने से आप अपने लक्ष्य को ऊंचे मुकाम तक ले जाने में कामयाब होंगे।
  • अगर आप दाम्पत्य संबंधों में चल रही उलझनों से छुटकारा पाना चाहते हैं, तो आज के दिन घर के आस-पास किसी मंदिर की साफ-सफाई में अपना सहयोग दें| साथ ही हल्दी का दान करें। आज के दिन ऐसा करने से दाम्पत्य संबंधों में चल रही उलझनों से आपको छुटकारा मिलेगा और आपके संबंध बेहतर होंगे।अगर आप अपने घर की सुख-समृद्धि और सौभाग्य में बढ़ोतरी करना चाहते हैं, तो आज के दिन विष्णु जी की मूर्ति या तस्वीर के सामने आसन बिछाकर बैठ जाएं और ऊं नमो भगवते लक्ष्मी नारायणाय मंत्र का 108 बार जप करें। मंत्र जप के बाद भगवान को भुने हुए आटे में पीसी हुई शक्कर मिलाकर भोग लगाएं। आज के दिन ऐसा करने से आपके घर की सुख-समृद्धि और सौभाग्य में बढ़ोतरी होगी।
  • अगर आप अपने जीवन में सकारात्मक ऊर्जा बनाए रखना चाहते हैं, तो आज के दिन देवगुरु बृहस्पति के इस विशेष मंत्र का 108 बार जप करें। मंत्र है -ऊँ ऐं क्लीं बृहस्पतये नमः। आज के दिन ऐसा करने से आपके जीवन में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहेगी।अगर आप अपने जीवन के प्रत्येक पल का आनंद उठाना चाहते हैं, तो आज के दिन किसी ब्राह्मण को सवा किलो चावल के साथ एक हल्दी की गांठ का दान करें। साथ ही उनका आशीर्वाद प्राप्त करें। आज के दिन ऐसा करने से आप अपने जीवन के प्रत्येक पल का आनंद उठा पाएंगे।
  • अगर आप अपने अध्यापकों के साथ संबंधों को बेहतर बनाना चाहते हैं, तो आज के दिन आपको पांच मुखी रुद्राक्ष की पूजा करके उसे गले में धारण करना चाहिए। साथ ही संभव हो तो अपने अध्यापक को भी पांच मुखी रुद्राक्ष भेंट करना चाहिए। आज के दिन ऐसा करने से अध्यापकों के साथ आपके संबंध बेहतर होंगे।अगर संतान से छोटी-छोटी बातों पर आपकी बहस हो जाती है, उनसे आपको अच्छा तालमेल नहीं बैठता है, तो ऐसी स्थिति में आज के दिन बांस के वृक्ष की सेवा करें। साथ ही किसी भी पूजा स्थल के सामने से सिर झुकाकर जाएं। आज के दिन ऐसा करने से संतान के साथ आपका तालमेल संबंध बेहतर और मजबूत होंगे।
  • अगर आप अपने आर्थिक पक्ष को मजबूत करना चाहते हैं, तो आज के दिन अपने मस्तक पर केसर का तिलक लगाएं। साथ ही किसी जरूरतमंद को पीला कपड़ा दान करें। आज के दिन ऐसा करने से आपका आर्थिक पक्ष मजबूत होगा।अगर कई बार आपके ऊपर अचानक से कोई मुसीबत आ जाती है और आप उससे बाहर निकलने में असुविधा महसूस करते हैं, तो आज के दिन आपको अपने माता-पिता के पैर छूकर उनकी जरूरत की कोई चीज उन्हें भेंट करनी चाहिए। आज के दिन ऐसा करने से आप मुसीबत से बाहर निकलने में सफल होंगे।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

दो सालों बाद सजी ढाक की धुन, पंडालों में पहुंचे ढाकी

सन्मार्ग संवाददाता काेलकाता : ढाकी की धुन और धुनुची नृत्य से पूजा का उत्साह चरम पर होता है। देखा जाये तो दुर्गापू​जा में बिना ढाक के आगे पढ़ें »

नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा से मिलती है…

कोलकाताः शास्त्रों के अनुसार नवरात्रि की षष्ठी तिथि मां कात्यायनी की पूजा को समर्पित है। मां दुर्गा का यह छठा स्वरूप बहुत करुणामयी है। माना आगे पढ़ें »

ऊपर