कोविड में डायबिटीज के मरीज कैसे रहें फ‍िट, जानें एक्‍सपर्ट के बताए ट‍िप्‍स

कोलकाताः कोरोना वायरस महामारी ने दुनिया भर के लगभग सभी देशों को बुरी तरह प्रभावित किया है। कोविड-19 महामारी को बढ़ने से रोकने और इसकी रफ्तार धीमा करने के लिए, सरकार ने लॉकडाउन लगाया है। लेकिन लॉकडाउन ने मूवमेंट (आवाजाही) को प्रतिबंधित कर दिया है, लोग कम एक्सरसाइज करने लगे हैं और ये टाइप 2 डायबिटीज (मधुमेह) के साथ रोगियों में गलत खानपान संबंधी आदतों की वजह बना है।
डायबिटीज वाले कई लोगों में ग्लाइकोसिलेटेड हीमोग्लोबिन के स्तर में बढ़ोतरी देखने को मिली है। इसके अलावा, एक्सरसाइज की कमी, गलत खान-पान और तनाव के कारण डायबिटीज के रोगियों का वजन काफी बढ़ गया है। लेकिन मोटापा, डायबिटीज और कोविड-19 एक खतरनाक तिकड़ी है। इसलिए, डायबिटीज वाले लोगों को अपने वजन और ब्लड ग्लूकोज के स्तर को कंट्रोल में रखना चाहिए।

जो लोग लॉकडाउन में सुस्त जीवन शैली को अपना रहे हैं (जी रहे हैं), उन्हें नियमित रूप से अपने ब्लड ग्लूकोज लेवल की भी जांच करनी चाहिए। लॉकडाउन के दौरान डायबिटीज के मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है।

डायबिटीज से पीड़ित लोगों को कोविड-19 महामारी के दौरान स्वस्थ रहना क्यों जरूरी है?

लाइफस्टाइल डिसऑर्डर डायबिटीज ने लगभग 77 मिलियन भारतीयों को प्रभावित किया है, नतीजतन भारत दुनिया भर में मधुमेह के रोगियों की दूसरी सबसे बड़ी संख्या वाला देश बन गया है। कोविड-19 महामारी के प्रकोप के दौरान, डायबिटीज वाले लोगों को सुरक्षित रहना चाहिए, क्योंकि शोधकर्ता, अनियंत्रित ब्लड शुगर लेवल वाले लोगों को कोविड-19 संबंधी जटिलताओं के पैदा होने संबंधी जोखिम के बारे में चेतावनी देते रहे हैं। हालांकि, इसका ये मतलब नहीं है कि डायबिटीज वाले लोगों को वायरल कोरोना वायरस से संक्रमित होने का खतरा है।

अपने रक्त शर्करा के स्तर को नियमित रूप से जांचना क्यों आवश्यक है?

डायबिटीज से पीड़ित लोगों को अपने ब्लड शुगर लेवल की नियमित रूप से जांच करनी चाहिए ताकि मधुमेह से जुड़ी समस्याओं जैसे हार्ट, किडनी, नसों, आंख या मस्तिष्क की जटिलताओं से बचा जा सके। इसके अलावा, ब्लड शुगर लेवल की नियमित निगरानी, डायबिटीज के रोगियों को उनके ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रित करने के लिए शारीरिक रूप से ज्यादा सक्रिय रहने के लिए प्रेरित कर सकती है।

लॉकडाउन में अपने ब्लड शुगर लेवल को कैसे कंट्रोल करें

लॉकडाउन ने लगभग हर किसी की जिंदगी को प्रभावित किया है। डायबिटीज वाले लोग कोई अपवाद नहीं हैं। डायबिटीज वाले लोग नियमित रूप से टहलने और व्यायाम करने के लिए बाहर नहीं जा सकते। साथ ही, नियमित रूप से वे अपने डॉक्टर के पास नहीं जा सकते, जैसा कि वे लॉकडाउन से पहले कर सकते थे। पेश हैं कुछ सुझाव, जिन्हें डायबिटीज से पीड़ित लोगों को घर पर ब्लड शुगर लेवल को मैनेज करने के लिए अपनाना चाहिए :

  • घर पर कम से कम 30 मिनट नियमित रूप से एक्सरसाइज करें।
  • पौष्टिक भोजन करें।
  • अपने आहार में हरी पत्तेदार सब्जियां, नट्स, मछली और फाइबर युक्त भोजन शामिल करें।
  • सिगरेट पीने और शराब पीने से बचें।
  • तनाव न लें।
  • कम से कम 6-8 घंटे की नींद लें।
  • यदि डायबिटीज वाले लोग अपने ब्लड शुगर के स्तर में बार-बार उतार-चढ़ाव देखते हैं, तो उन्हें अपने एंडोक्राइनोलॉजिस्ट से परामर्श लेना चाहिए।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

निकाय चुनावों के लिए उम्मीदवार नहीं मिल पा रहे माकपा को

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : बंगाल विधानसभा चुनाव में एक सीट नहीं जीत पाने वाली माकपा का अब यह आलम है कि उसे नगर निकायों के चुनाव आगे पढ़ें »

ऊपर