चार साल में बाघों की संख्या 750 बढ़ी : जावड़ेकर

javdekar

नयी दिल्ली : पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बाघ संरक्षण अभियान को लेकर कहा कि देश में बाघों की संख्या बढ़ी है। उन्होंने सोमवार को राज्यसभा में बताया कि पिछले चार साल के दौरान देश में बाघों की संख्या में 750 का इजाफा हुआ है। जावड़ेकर ने प्रश्नकाल में एक सवाल के जवाब में बताया कि देश में अब बाघों की संख्या बढ़कर 2976 हो गयी है।’’

शेर, हाथी और गैंडा भारत की विशिष्ट संपदा हैं

वन्य जीवों की वायरस की वजह से मौत से जुड़े एक पूरक प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा कि शेर, हाथी और गैंडा भारत की विशिष्ट संपदा हैं। अगर किसी जानवर की वायरस के कारण मौत का मामला संज्ञान में आता है तो इसकी तुरंत जांच की जाती है। पूर्वोत्तर राज्यों में वन क्षेत्र में गिरावट से जुड़े पूरक प्रश्न के जवाब में जावड़ेकर ने कहा कि इन राज्यों में झूम खेती की विशिष्ट परेशानियां हरित क्षेत्र में गिरावट की वजह हो सकती है। हालांकि इन राज्यों में 75 प्रतिशत से अधिक वनक्षेत्र बरकरार है।

देश के हरित क्षेत्र के ताजा आंकड़े होंगे प्रकाशित

उन्होंने बताया कि अगले महीने देश के हरित क्षेत्र के ताजा आंकड़े प्रकाशित किये जायेंगे। उल्लेखनीय है कि 2007 से 2017 के दौरान देश के वनक्षेत्र में 17,374 वर्ग किमी का इजाफा हुआ था। इसमें 2015 से 2017 के दौरान 6,788 वर्ग किमी की वृद्धि हुयी थी। देश का कुल वन क्षेत्र 7.08 लाख वर्ग किमी है जो कि कुल क्षेत्रफल का 21.54 प्रतिशत है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ऊपर