करवाचौथ की पूजा के लिए इस साल रहेगा बेहद शुभ मुहूर्त, अभी से जान लें पूजा विधि-महत्व

कोलकाता : कार्तिक मास के कृष्‍ण पक्ष की चतुर्थी को करवा चौथ मनाया जाता है। इस साल 13 अक्‍टूबर 2022 को करवा चौथ मनाया जाएगा। इस दिन सुहागिनें पूरे दिन निर्जला व्रत रखती हैं और फिर रात को चंद्रमा के दर्शन करके, उन्‍हें अर्ध्‍य देकर अपना व्रत खोलती हैं। इस दिन प्रथम पूज्‍य भगवान गणेश, भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा की जाती है। कुंवारी लड़कियां भी अच्‍छा वर पाने के लिए करवा चौथ का व्रत करती हैं। इस साल करवा चौथ का व्रत एक कारण से और भी खास रहेगा।
करवा चौथ व्रत 2022 पर रहेगा बेहद शुभ मुहूर्त
साल 2022 में करवा चौथ के व्रत पर पूजा का बेहद शुभ मुहूर्त रहने वाला है। इस साल कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि 13 अक्टूबर, गुरुवार की देर रात 01:59 बजे से शुरू होकर 14 अक्टूबर को तड़के 03:08 बजे तक रहेगी। चूंकि चंद्रोदय व्यापिनी मुहूर्त 13 अक्टूबर को है इसलिए करवा चौथ की पूजा इसी दिन की जाएगी और इसी दिन व्रत रखा जाएगा। करवा चौथ की पूजा के लिए सबसे शुभ मुहूर्त 13 अक्टूबर की शाम 05:54 बजे से शाम 07:09 बजे तक रहेगा। यानी कि पूजा करने के लिए केवल 1 घंटा 15 मिनट का समय मिलेगा। वहीं चंद्रोदय का समय रात 08:09 बजे है।
करवा चौथ व्रत पूजा विधि
करवा चौथ व्रत निर्जला रखा जाता है। केवल सेहत संबंधी समस्‍या होने पर या गर्भवती महिलाओं को ही फलाहार लेने की छूट रहती है। इस व्रत की शुरुआत तड़के सुबह स्‍नान और सरगी खाने से होती है। महिलाएं इस दिन खूब सजती-संवरती हैं, हाथों में सुंदर मेहंदी सजाती हैं और फिर शाम को पूजा करती हैं। इसके लिए लोटे में जल लेते हैं और एक करवे में गेहूं भरकर रखते हैं। फिर भगवान शिव, माता पार्वती की विधि-विधान से पूजा करती हैं। रात में चंद्रोदय होने पर चंद्र देव को अर्ध्‍य देती हैं और अपने पति की लंबी उम्र की कामना करती हैं। इसके बाद ही वे पानी पीती हैं और व्रत खोलती हैं।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

दुर्गापूजा के रंग में बारिश ने डाला भंग

कोलकाता : इस वक्त की बड़ी खबर आ रही है कि आज षष्ठी के साथ ही महानगर में बारिश की शुरुआत हो गयी है। मालूम आगे पढ़ें »

‘नीतीश या लालू नहीं… इस बार बिहार की जनता चाहती है बदलाव’

बिहार : बिहार में वैकल्पिक राजनीति की बात करने वाले प्रशांत किशोर 2 अक्टूबर गांधी जयंती से बिहार में प्रदेशव्यापी जन सूरज पदयात्रा शुरू करने आगे पढ़ें »

ऊपर