इस पौधे में है बड़े-बड़े गुण, एक नहीं 20 बिमारियों का है रामबाण इलाज

कोलकाता : चमेली के पेड़ों में पोषक तत्व पाए जाते हैं, चमेली नामक एक अल्कलॉइड और चमेली के अक्षरों में पाया जाने वाला एक राल। चमेली के तेल में बेंजाइल एसीटेट, मिथाइल ईथर निलेट और इलिकुल जैसे पदार्थ होते हैं। ज्वर में चमेली के फायदे और तरीके हैं। और बुखार के रोगी को शीघ्र आराम मिलता है।

मासिक धर्म: मासिक धर्म में 20 ग्राम पंचांग को आधा किलो पानी में उबालकर शेष काढ़ा सुबह-शाम पीने से तिल्ली और अन्य अंगों की रुकावट दूर होती है या लिंग को जड़ से उखाड़ने में लाभ होता है फ्लैगेलेशन और नपुंसकता। 10 मिलीलीटर चमेली के पत्ते के चूर्ण में 2 ग्राम सरसों का चूरा मिलाकर मूत्रमार्ग, घी और जांघों पर लगाने से नपुंसकता दूर होती है। यह लेप बहुत खुरदरा होता है। इसलिए इसका प्रयोग सावधानी पूर्वक करना चाहिए। इस पीसी के 5-10 फूल इंद्रियों पर लगाने से गंध की शक्ति बढ़ती है।

सफेद दाग: कुष्ठ रोग में चमेली के सफेद पत्ते, इंद्र जोकुट, सफेद कनेर की जड़, करंज फल, हल्दी का छिलका एक साथ मिलाकर सफेद दागों को दूर करने के लिए लगाया जाता है। चमेली की जड़ का काढ़ा कुष्ठ रोग में लाभकारी होता है।

चर्म रोग: चमेली का तेल चर्मरोग के लिए एक अच्छी औषधि है। चमेली की जड़ पीसी सभी प्रकार के जहरीले घाव, खुजली, खुजली, नाराज़गी, असाध्य घाव आदि को ठीक करती है। चमेली के फूल 8-10 पीसकर चर्म रोग और रक्त विकार में लगाने से पेट के कीड़ों में चमेली के फायदे और उपाय 10 ग्राम चमेली के पत्तों को पानी में मिलाकर पीने से पेट के कीड़े मर जाते हैं। मासिक धर्म भी साफ हो जाता है।

सिर दर्द: सिर दर्द में चमेली के तीन अक्षर गूलर लाह में घिसकर 2-2 बूंद नाक में डालने से माथे का दर्द दूर होता है। कामोद्दीपक में चमेली के फायदे और तरीके : चमेली के 20 ग्राम अक्षरों को इसमें डालकर उबाल लें। 100 ग्राम तिल का तेल और 1-1 बूंद तेल कान में डालने से बहना बंद हो जाता है। चमेली के तेल में अल्बा मिलाकर कान में डालने से कान की खुजली दूर हो जाती है। 10 मिली गोमूत्र में 5 मिली चमेली का रस मिलाकर कान में डालने से कान का दर्द दूर हो जाता है।

पाचन शक्ति: 10-20 ग्राम चमेली की जड़ का काढ़ा पाचन तंत्र में बनाए रखता है। पाचन शक्ति को बनाए रखता है। चमेली के पत्तों को चबाने से मुंह के छाले और मसूड़े के दोष दूर होते हैं। घर की शोभा बढ़ाने के लिए, बर्तनों में, मंदिरों में, चमेली की बेलों में चमेली की बेलें पूरे भारत में पेश की जाती हैं। इसके फूलों से इत्र और तेल बनाए जाते हैं। 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

सिंदूर खेला के बाद नम आंखों से विदा किया गया मां दुर्गा को

एकादशी के दिन भी कई पूजा पण्डालों के पास उमड़ी भीड़ कोलकाता : ‘बोलाे दुर्गा माई की...जय, आसछे बोछोर आबार होबे’ के नारों से विभिन्न विसर्जन आगे पढ़ें »

ऊपर