देव दीपावली के दिन ये एक छोटा-सा उपाय चमका सकता है आपकी किस्मत

कोलकाता : कार्तिक मास पूजा-पाठ के लिहाज से काफी पवित्र माना जाता है। कहते हैं कि इस महीने में किए गए पूजा-पाठ से कई सौ गुना ज्यादा फल और पुण्य प्राप्त होता है। कार्तिक मास में ही चार माह से योग निद्रा में गए भगवान विष्णु जी जागते हैं और अपना कार्यभार संभालते हैं। कार्तिक पूर्णिमा का महीना कार्तिक माह का आखिरी दिन होता है और इसी दिन देशभर में देव दीपावली भी मनाई जाती है। मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव ने त्रिपुरासुर राक्षस का वध कर देवताओं को स्वर्ग वापस लौटाया था और इसी खुशी में देव दीपावली मनाई जाती है। वहीं, दूसरी मान्यता है कि इस दिन भगवान विष्णु ने मत्स्यावतार लिया था।
गंगा घाट पर इस दिन देवता स्वर्ग लोग से गंगा में स्नान के लिए धरती पर उतरते हैं और इसी खुशी में वाराणसी का गंगा घाट रोशनी से जगमगाता है। इस दिन पूरे घाट को दीपक से रोशन किया जाता है। इस दिन भगवान विष्णु की विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना की जाती है। साथ ही, मां लक्ष्मी की भी पूजा की जाती है। पूजा-पाठ के साथ-साथ अगर कुछ उपाय भी कर लिए जाएं, तो वे आपकी किस्मत चमका सकते हैं। जी हां, देव दिवाली के दिन तुलसी के इन उपायों को कर लिया जाए, तो बहुत लाभकारी होता है। आइए जानते हैं इन उपायों के बारे में।
देव दीपावली के दिन करें ये उपाय
– तुलसी के 11 पत्ते : मान्यता है कि कार्तिक माह या देव दिवाली के दिन घर में तुलसी का पौधा लगाएं और भगवान विष्णु के चित्र या मूर्ति पर तुलसी के 11 पत्तों को बांध दें। इससे घर में कभी भी धन-संपत्ति की कमी नहीं होती। साथ ही, घर की दरिद्रता भी दूर होती है।
– आटे में तुलसी के पत्ते : कहते हैं कि देव दिवाली के दिन तुलसी के 11 पत्ते लेकर आटे के बर्तन में डाल कर छोड़ दें। ऐसा करने से घर में शुभ परिवर्तन दिखाई देते हैं।
– विष्णु सहस्रनाम का पाठ करें : देव दिवाली, एकादशी, अनंत चतुर्दशी, देवशयनी, देव उठनी, दिवाली, खरमास, पुरुषोत्तम मास, तीर्थ क्षेत्र, पर्व आदि खास मौकों पर विष्णु सहस्रनाम का पाठ करने से सारी बाधाओं का नाश होता है।
– पीला कपड़ा : नौकरी या कारोबार में तरक्की के लिए कार्तिक माह के किसी भी गुरुवार के दिन तुलसी के पौधे पर पीला रंग का कपड़ा बांध दें। ऐसा करने से कारोबार में उन्नती और नौकरी में प्रमोशन की संभावना बढ़ जाती है।
– सत्यनारायण भगवान की कथा : इतना ही नहीं, देव दिवाली, एकादशी, अनंत चतुर्दशी, देवशयनी, देव उठनी, दिवाली, खरमास, पुरुषोत्तम मास, तीर्थ क्षेत्र, पर्व आदि विशेष अवसरों पर सत्यनारायण भगवान की कथा करने या करवाने से सभी कष्टों का नाश होता है और जीवन में खुशहाली आती है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

एनामुल हक से तिहाड़ जेल में आज सीआईडी अधिकारी करेंगे पूछताछ

मवेशी तस्करी मामले में पूछताछ करने के ‌लिए दिल्ली पहुंचे सीआईडी अधिकारी सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : मवेशी तस्करी मामले में मुख्य अभियुक्त एमानुल हक से पूछताछ के आगे पढ़ें »

बीमारियों को दूर रखता है आपके किचन में रखा लहसुन, जानिए चमत्कारी लाभ

नई दिल्ली : लहसुन में एंटी-ऑक्सीडेंट्स और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। इससे शरीर में हो रहे दर्द को कम करने में मदद मिलती है। आगे पढ़ें »

ऊपर