घर में उल्टे जूते-चप्पल रखने पर इसलिए टोकते हैं बड़े-बुजुर्ग, ये रही वजह

कोलकाता :  घर में बड़े-बुजुर्ग हमेशा जूते-चप्पलों को लेकर टोकते रहते हैं। अधिकतर लोगों को तो यह उलझन लगती है लेकिन इसके पीछे का लॉजिक कोई नहीं जानता। हालांकि बड़े बुजुर्गों के टोकने पर तुरंत चप्पल सीधी कर देते हैं। तो आइए जानते हैं कि चप्पलों को उल्टा छोड़ने से क्या समस्या हो सकती है।

रूठती हैं मां लक्ष्मी
मान्यता है कि घर में उल्टी चप्पल या उल्टे जूते होने पर उन्हें तुरंत सीधा कर देना चाहिए, क्योंकि इससे घर पर लड़ाई हो सकती है और मां लक्ष्मी भी रूठ जाती हैं। इसलिए बड़े बुजुर्ग कहते हैं कि उल्टी चप्पल को तुरंत सीधा कर देना चाहिए, इसके पीछे कोई वैज्ञानिक तथ्य नहीं है।

घर में बढ़ती है बीमारी
इसके अलावा एक और मान्यता ये भी है कि चप्पल जूते उल्टे रखने से घर में बीमारी, दुख आदि चीजें आने लगती हैं। इसलिए चप्पल और जूता निकालने के बाद यदि वह गलती से उल्टा हो जाता है तो तुरंत उसे सीधा कर दें। मान्यता ये भी है कि घर के आगे या घर में उल्टा चप्पल और जूता रखने से घर में झगड़ा हो सकता है। बड़े बुजुर्ग कहते हैं कि चप्पल और जूतों को कभी भी उल्टा ना रखें इससे घर में नकारात्मक ऊर्जा आती है।
सोच पर पड़ता है बुरा असर
यह भी मान्यता है कि घर के दरवाजे पर भूलकर भी जूते-चप्पल उल्टे नहीं रखने चाहिए। इससे घर के सदस्यों की सोच पर बुरा असर पड़ता है। वास्तु के मुताबिक जूते-चप्पल उल्टे होने से घर की सकारात्मकता दूर चली जाती है। इससे परिवार की सुख-शांति में काफी बाधा आती है।

रहता है शनि का प्रकोप
माना जाता है कि घर में उल्टे जूता चप्पल रखने से तनाव का माहौल रहता है। साथ ही उल्टे चप्पल और जूते रखने से शनि का प्रकोप रहता है, क्योंकि शनिदेव को पैरों का कारक माना गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

न्यू टाउन में इस साल होगी पहली कम्युनिटी दुर्गा पूजा

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : न्यू टाउन इस साल अपनी पहली सामुदायिक दुर्गा पूजा प्राप्त करने के लिए तैयार है। अब तक यहां गेटेड कम्युनिटी ही दुर्गा आगे पढ़ें »

ऊपर