…यह है सुखी दाम्पत्य जीवन का आधार

कोलकाता : आज के समय में देखा जाए तो ऐसे दंपत्ति बहुत ही कम मिलेंगे जो एक-दूजे से पूर्णत: संतुष्ट हों। मेरी एक परिचिता हैं मिसेज बजाज जो अब अपने पति से अलग रहती हैं। मिसेज बजाज ने पूरे 10 साल अपने पति के साथ बिताये लेकिन इतना समय साथ रहने के बाद भी वे अपने वैवाहिक जीवन से संतुष्ट नहीं थी, परिणामस्वरूप उन्होंने अपने पति से तलाक ले लिया।
मिसेज बजाज का कहना था कि 10 साल तक उन्होंने एक घुटन भरी जिंदगी व्यतीत की है। अब पति से अलग रह कर वे खुश हैं। मेरी राय में मिसेज बजाज अपनी जगह ठीक हैं क्योंकि इतनी लंबी अवधि पर्याप्त होती है किसी इंसान को परखने के लिए। उपरोक्त उदाहरण से एक बात तो साफ जाहिर हो ही गई है कि संयम की भी एक सीमा होती है और यह सीमा अगर खत्म होने लगे तो समझ कीजिए कि आपके संबंध टूटने की कगार पर हैं।
दूसरा केस एक 26 वर्षीय अध्यापिका कुसुम का है। कुसुम ने बताया कि वह शहरी माहौल में पली-बड़ी है लेकिन उसकी शादी ग्रामीण क्षेत्र में हुई जिसकी वजह से उसे काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। एक वक्त ऐसा भी आया जब कुसुम ने सब कुछ छोड़कर वापिस अपने मायके जाकर रहने का फैसला किया।
ऐसे में उसके पति ने उसे समझाया कि आर्थिक स्थिति ठीक हो जाने पर वे उसको शहर ले जायेंगे तथा वहीं मकान लेकर रहेंगे। इस तरह काफी समझाने के उपरांत कुसुम मान गई और कुछ समय के लिए ठहर गई। उधर कुछ समय के पश्चात् कुसुम के पति ने अपना वायदा निभाया और वे उसको लेकर शहर आ गए। इस तरह उनका वैवाहिक जीवन टूटने से बच गया।
अत: हम कह सकते हैं कि वैवाहिक जीवन को बनाने एवम् संवारने में पति-पत्नी अर्थात दोनों का योगदान होना जरूरी है अन्यथा संबंधों में खटास पैदा होते देर नहीं लगती। (उर्वशी)कृष्णा कुमारी

शेयर करें

मुख्य समाचार

माध्यमिक के लिए 50 : 50 सूत्र, एचएस के लिए 40 : 60 सूत्र से मिलेंगे अंक

माध्यमिक का 9वीं का वार्षिक और 10वीं की इंटरनल परीक्षा के आधार पर होगा रिजल्ट उच्च माध्यमिक के लिए 2019 की माध्यमिक और 11वीं की प्रैक्टिकल आगे पढ़ें »

लड़कियों के स्तनों को छूने से पहले…

कोलकाता : जानना चाहते हैं कि किसी लड़की के स्तनों को कैसे छुएं। बहुत से पुरुषों को समझ नहीं आता है कि वह पहली बार आगे पढ़ें »

ऊपर