बेहद चमत्‍कारिक हैं ये टोटके, 24 घंटे में दिखाते हैं असर!

कोलकाताः हर इंसान के जीवन में उतार-चढ़ाव आते हैं। उनसे बचने के या उनसे निपटने के कुछ तरीके भी होते हैं। कुछ लोग इसके लिए सेल्‍फ-हेल्‍प किताबों या लाइफ कोच की मदद लेते हैं तो कुछ ज्‍योतिष, तंत्र-मंत्र आदि का सहारा लेते हैं। तंत्र शास्‍त्र में ऐसी समस्‍याओं को दूर करने और अपनी मनोकामनाओं को पूरे करने के कुछ प्रभावी उपाय बताए गए हैं, जिन्‍हें करते ही कुछ ही घंटों में असर नजर आने लगता है।

तेजी से असर दिखाते हैं ये उपाय 

घर में बार-बार झगड़े हों, चोरी या किसी अन्‍य कारण से नुकसान हों, कोई न कोई सदस्‍य हमेशा बीमार रहे या बार-बार धन हानि हो तो ऐसी स्थिति में कुछ उपाय करना बहुत राहत देता है।
– इस तरह की समस्‍याओं और हानि से बचने के लिए बुधवार के दिन 7 प्रकार के अनाज का दान करें। इसके अलावा नागरमोथा की जड़ धारण करना और राहु यंत्र की स्थापना करके उसी पूजा करना भी तत्‍काल सकारात्‍मक नतीजे देता है।
– यदि किसी की नजर लग जाए या लगातार नुकसान, दुर्घटनाएं झेलनी पड़ रही हों तो नौ मुखी रुद्राक्ष धारण करें। इसके अलावा पंचमुखी हनुमान जी का लॉकेट पहनने से भी बहुत लाभ होता है। कारोबार में तरक्‍की के लिए भी ऐसा लॉकेट बहुत लाभ पहुंचाता है।
– रोजाना हनुमान चालीसा एवं बजरंग बाण का पाठ करना जिंदगी से सारी मुसीबतें दूर कर देता है और आने वाले संकटों से बचाता है। इसके अलावा हनुमान जी के मंदिर जाकर उनके कंधे का सिंदूर अपने माथे पर लगाएं, आपको एक के बाद एक सफलताएं मिलनी शुरू हो जाएंगी।
– भैरो बाबा के मंदिर का काला धागा पहनना भी बुरी नजर और मुसीबतों से बचाता है।
– बुरी नजर उतारने के लिए एक रोटी बनाएं और उसे केवल एक तरफ से ही सेंके। फिर सिके हुए भाग पर तेल लगाकर उसमें लाल मिर्च और समुद्री नमक के दो ढेले रखें। फिर इसे उस व्‍यक्ति के ऊपर 7 बार वार कर चौराहे पर रख दें।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राज्यपाल को लेकर भाजपा ने दी गृह मंत्रालय को रिपोर्ट

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : गत नवम्बर महीने में पश्चिम बंगाल के स्थायी राज्यपाल बने डॉ. सी. वी. आनंदा बोस के बारे में भा​जपा नेताओं ने सोचा आगे पढ़ें »

सागरदिघी उपचुनाव के लिए हुआ कांग्रेस और वाम का समझौता

सागरदिघी उपचुनाव के लिए हुआ कांग्रेस और वाम का समझौता सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : 2021 के विधानसभा चुनाव के बाद उपचुनावों में भी वाम-कांग्रेस का समझौता आगे पढ़ें »

ऊपर