…तो ये 4 फूड करते है शरीर को बीमार, हो जाईए अलर्ट

कोलकाता: यू तो घर का खाना हेल्दी माना जाता है, लेकिन आपको नहीं पता की किचन में ऐसी कई चीजें हैं जिसे आप यदि अपने भोजन में शामिल करते है तो वह आपके शरीर के लिए किसी जहर से कम नहीं है। ऐसी कुछ चीजों की लिस्ट हम आपको यहां बता रहें जिनके अतिरिक्त सेवन को कंट्रोल करके आप कई सारी बीमारियों के जोखिम को कम कर सकते हैं।

तेल
यदि आपके घर में पकोड़े, तले हुए प्याज, फ्रेंच फ्राइज़, फ्रोजन फूड आदि खाना पसंद करते हैं तो तेल का ज्यादा इस्तेमाल वाजिब है। लेकिन ध्यान रहें आपकी ये पसंद दिल का दौरा, स्ट्रोक, स्तन/डिम्बग्रंथि के कैंसर, मधुमेह, उच्च रक्तचाप, अस्वस्थ वजन और जोड़ों के दर्द सहित अन्य के जोखिम को बढ़ाने का काम करती है।

मैदा
आपकी रसोई में मैदा मौजूद होता है कई तरह के व्यंजनों को बनाने के लिए जैसे कुकीज़, केक, ब्रेड और पास्ता। एक्सपर्ट बताते हैं कि मैदा के अत्यधिक सेवन से वजन बढ़ना, चयापचय संबंधी समस्याएं, हृदय रोग और यहां तक कि कैंसर भी हो सकता है।​

नमक
एक स्टडी में पाया गया है कि ज्यादा नमक खाने से 28 प्रतिशत तक मौत का खतरा बढ़ जाता है। नमक के बिना खाने का स्वाद आपको फीका लग सकता है लेकिन इसे कम मात्रा में खाना समझदारी है। अधिक नमक उच्च रक्तचाप, हृदय रोग और स्ट्रोक का कारण बन सकता है।​

शक्कर
सफेद चीनी लगभग हर किचन में रखा होता है। यह मीठी चीनी चाय, कॉफी, मिल्कशेक और अन्य व्यंजनों में इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन शक्कर सेहत के लिए हानिकारक होता है। बहुत अधिक चीनी का सेवन करने से उच्च रक्तचाप, सूजन, वजन बढ़ना, मधुमेह और फैटी लीवर की बीमारी हो सकती है। जो स्ट्रोक और हृदय रोग के खतरे को दोगुना कर देती है।

​करें यह छोटे-छोटे बदलाव
तेल, नमक या किसी अन्य खाद्य पदार्थ को खाना बंद करने के बजाय, स्वस्थ विकल्पों पर ध्यान केंद्रित करना और सीमित मात्रा में इन खाद्य पदार्थों का सेवन करना जरूरी होता है। उदाहरण के लिए, रिफाइंड आटे को अन्य प्रकार के स्वस्थ और फाइबर युक्त आटे जैसे रागी या साबुत गेहूं के आटे का सेवन करें। चीनी की जगह गुड़ का सेवन करें। ये छोटे-छोटे बदलाव आपके स्वास्थ्य के साथ-साथ आपके परिवार के सदस्यों के स्वास्थ्य में भी सुधार ला सकते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सीएए लागू होने से कोई नहीं रोक सकता : शुभेंदु

कहा, साबित करें ​कि मैंने सीएम के पैर छूए सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : विधानसभा में सौजन्यता की राजनीति को भूलते हुए शनिवार को विपक्ष के नेता शुभेंदु आगे पढ़ें »

हाई कोर्ट ने खड़े किए हाथ, कहा : सुप्रीम कोर्ट जाएं

हीरा की रद्दगी और रेरा की बहाली से जुड़ा एक उलझा हुआ सवाल सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : सुप्रीम कोर्ट ने इसी साल चार मई को पश्चिम बंगाल आगे पढ़ें »

ऊपर