घर में रखीं ये 5 पुरानी चीजें लाती हैं बदकिस्मती, तुरंत निकाल फेंकिए

नई दिल्ली : घर में रखी कुछ पुरानी चीजों से हमें बहुत लगाव होता है। हमारे जीवन में इन चीजों का कोई इस्तेमाल नहीं होता, इसके बावजूद लोग इन्हें स्टोर रूम या किसी खास जगह पर संभालकर रखते हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार, जिन चीजों का लंबे समय से इस्तेमाल नहीं होता है, उनमें राहु-केतु और शनि का वास हो जाता है। इसलिए घर में रखी ऐसी चीजें बहुत अपशकुन हो सकती हैं। आइए आज आपको ऐसी कुछ खास चीजों के बारे में बताते हैं।
पीतल के बर्तन – पीतल के बर्तनों का चलन अब कम हो गया है। इन बर्तनों को लोग अब स्टोर रूम या किचन में किसी बंद जगह पर रखते हैं। इन बर्तनों को अंधेरे में रखने से इनमें शनि का वास हो जाता है। ऐसा होने पर जीवन में परेशानियां दस्तक देने लगती हैं। इंसान रुपए-पैसे को मोहताज रहने लगता है।
पुराने कपड़े- आपने अक्सर देखा होगा कि लोग अपने घर के पुराने कपड़े, बिस्तर, रजाई या चादर जैसी चीजों को स्टोर रूम में सालों तक धूल जमने के लिए छोड़ देते है। ऐसा करने से कुंडली में बुध ग्रह की स्थिति खराब होती है। इन कपड़ों को ना तो हम देखते हैं और ना ही इन्हें धूप लगाते हैं। नतीजन घर में राहु-केतु की नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव बढ़ जाता है।
जंग लगी हुई चीजें- हमारे घर में अक्सर लोहे के औजारों की जरूरत पड़ जाती है। लेकिन इनका इस्तेमाल होते ही हम इन्हें भी जंग लगने के लिए छोड़ देते हैं। ऐसे जंग लगे औजारों को घर में रखने से कलेश बढ़ता है। परेशानियां बढ़ती हैं। वास्तु के अनुसार, नुकीले औजार जंग लगने के बाद और भी ज्यादा खतरनाक हो जाते हैं। इस तरह के औजार घर में बिल्कुल ना रखें।
सिलाई मशीन- पहले हर घर में सिलाई मशीन हुआ करती थीं। लेकिन अब सिलाई मशीन का उपयोग कम ही देखने को मिलती है। सिलाई मशीन की सुई हमारे जीवन में शूल का काम करती है। घर में बंद पड़ी सिलाई मशीन में भी राहु-शनि का वास हो जाता है। इस मशीन के कारण भी आपके घर में नकारात्मक ऊर्जा फैल सकती है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

स्वतंत्रता दिवस पर महानगर में तैनात रहेंगे 2500 पुलिस कर्मी

रेड रोड में मौजूद रहेंगे 1200 पुलिस कर्मी 6 वॉच टॉवर, 11 बंकर और 3 क्यूआरटी किए गए तैनात 6 ज्वाइंट सीपी, 20 डीसी और 40 एसीपी आगे पढ़ें »

ऊपर