इन 3 तरह के लोगों ज्यादा नहीं खानी चाहिए मूंग की दाल, जानिए कारण और मूंग के नुकसान

कोलकाताः हमेशा से ही हेल्दी रहने के लिए दालों का सेवन किया जाना अच्छा माना जाता है। दालों में सभी तरह के पोषण तत्व और प्रोटीन की भरपूर मात्रा होती है। किसी को डायजेशन की समस्या हो या कोई बीमार हो उसके लिए मूंग की दाल या खिचड़ी बनाई जाती है, लेकिन क्या आपको पता है कि, मूंग की दाल भी कई मायनों में नुकसानदायक हो सकती है? एक्सपर्ट्स के मुताबिक मूंग की दाल के साथ यहां थोड़ा उल्टा मामला है। मूंग की दाल को कुछ लोगों की हेल्थ के लिए पूरी तरह से अच्छा नहीं माना जाता। यहां तक उन्हें हर रोज मूंग दाल खाने से भी पहरेज करने की सलाह दी जाती है। आखिर किन लोगों के लिए मूंग दाल का सेवन नुकसानदायक हो सकता है, चलिए जानते हैं।

  • अगर है यूरिक एसिड की समस्या

काफी लोग होते हैं, जिनके शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा ज्यादा होती है। ऐसे लोगों को मूंग की दाल खाने से पहरेज करना चाहिए। हर रोज मूंग दाल खाने से यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ सकती है।

  • अगर है पेट फूलने की समस्या

अगर किसी इंसान को ब्लोटिंग या पेट फूलने की समस्या है तो, मूंग दाल का सेवन नहीं करना चाहिए। मूंग दाल में शार्ट चेन कर्ब्स मौजूद होते हैं, जिन्हें पचाने में परेशानी हो सकती है।

  • अगर है ब्लड प्रेशर और डायबिटीज

काफी लोगों को हाई ब्लड प्रेशर की समस्या होती है। उनके लिए तो मूंग की दाल का सेवन करना सही बताया जाता है। लेकिन जिन्हें लो ब्लड प्रेशर की समस्या होती है उन्हें मूंग की दाल के सेवन से पहरेज करना चाहिए। वहीं अगर आपको लो डायबिटीज की समस्या है, तो उन्हें भी मूंग दाल का सेवन नहीं करना चाहिए। ये नुकसानदायक हो सकता है।

काफी लोग मूंग दाल को अन्य दालों की तुलना में सबसे अच्छा मानते हैं, लेकिन जिन्हें यूरिक एसिड, ब्लड प्रेशर, पेट फूलने या लो ब्लड शुगर की समस्या है उनको मूंग की दाल काफी ज्यादा नुकसान पहुंचा सकती है।

 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

क्रिसमस से पहले न्यू गरिया से रुबी तक दौड़ सकती है मेट्रो!

इसी हफ्ते लाइन के निरीक्षण की संभावना कोलकाता : रेलवे सुरक्षा आयुक्त या सीआरएस इस सप्ताह न्यू गरिया-रूबी मेट्रो लाइन का निरीक्षण करने आ सकते हैं। आगे पढ़ें »

हॉस्‍टल में रहने वाले 10 बच्‍चों को लगा बिजली करंट

कोलकाता : कोलकाता के एक हॉस्टल में रहने वाले 10 बच्चों को बिजली का करंट लग गया। करंट लगने के बाद मौके पर अफरा तफरी आगे पढ़ें »

ऊपर