भाभी को जलाने वाले तांत्रिक के घर से आती थी महिलाओं के चीखने की आवाजें

उत्तर प्रदेश : उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में अंधविश्वास का खौफनाक मंजर देखकर पूरे गांव के लोग हैरान हैं। किसी को यकीन नहीं हो रहा है कि बच्चा न होने के कारण कथित तांत्रिक देवर ने गर्म चिमटे से जलाकर भाभी को मार डाला और उसे बचाने आई बहू के साथ मारपीट की। कहमारा गांव की इस घटना ने एक बार फिर अंधविश्वास का घिनौना चेहरा सामने ला दिया है। आसपास के लोगों ने कथित तांत्रिक के घर की जो बातें बताई हैं उसे जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे। बताते हैं कि गांव कहमारा के दुर्वेश और सर्वेश का परिवार दीपावली के बाद से अचानक चर्चा में था। कारण था कि दुर्वेश डींगे हांकता था कि वह जल्द ही बड़ा तांत्रिक बन जाएगा और उसके ऊपर जिन्न आने लगे हैं, जिससे वह कोई भी बीमारी ठीक कर सकता है और लोगों के बिगड़े काम बना सकता है। पिछले कुछ दिनों से दुर्वेश के घर से महिलाओं के चीखने की आवाजें आया करती थीं, लेकिन इस परिवार के लोगों के अजीब व्यवहार के चलते गांव के लोग इनसे कोई संबंध नहीं रखते थे। दुर्वेश छह भाई है। सभी भाई अलग-अलग रहते हैं और गरीबी के कारण परिवार के सभी पुरुष सदस्य गांवों में फेरी लगाकर सौंदर्य प्रसाधन के सामान बेचते हैं। दुर्वेश के परिवार की कुछ महिलाओं को मानसिक समस्या थी। महिलाओं का इलाज नहीं कराया जाता था और झाड़ फूंक करने वालों को बुलाया जाता था। इसी क्रम में सीतापुर के थाना पिसावां के गांव सेजकलां के कथित तांत्रिक देवधर से दुर्वेश का संपर्क हुआ। देवधर ने महिलाओं को ठीक करने के साथ ही दुर्वेश को भी तांत्रिक बनने के सब्जबाग दिखाकर अपने जाल में फंसा लिया। दुर्वेश अक्सर सेजकलां जाता था और वापस आकर गांव में खुद को तांत्रिक बताता था। इस बीच दुर्वेश के भाई सर्वेश ने शादी के 13 वर्ष बाद भी संतान नहीं होने की बात कही तो दुर्वेश ने देवधर से बात की। देवधर ने बताया कि चुड़ैल के साए के कारण सर्वेश और शारदा के संतान नहीं हो रही है। इसके बाद देवधर के बताए अनुसार दुर्वेश से भाई सर्वेश के साथ मिलकर शारदा को गर्म चिमटों से दागा और जमकर पीटा। दुर्वेश कहता था कि जलने से शारदा को कोई कष्ट नहीं होगा और पिटाई से चोट भी चुड़ैल को ही लगेगी। गर्म चिमटों से शरीर के तमाम अंगों पर दागे जाने से शारदा देवी ने 27 फरवरी की रात दम तोड़ दिया। गांव के लोगों ने बताया कि दुर्वेश घर से बाहर निकालता था तो उसके पास कोई न कोई धारदार हथियार जरूर होता था। उसका व्यवहार भी बदला सा होने के कारण गांव के लोग दुर्वेश और उसके परिवार से ज्यादा बात नहीं करते थे। एक तरह से दुर्वेश और उसका परिवार गांव के लोगों से कट सा गया था। इस कारण दुर्वेश और उसके भाइयों के घर में क्या हो रहा है, इस पर कोई ध्यान नहीं देता था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सॉल्टलेक के दत्ताबाद मैं भाजपा कार्यकर्ताओं ने जमकर किया तोड़फोड़

सन्मार्ग संवाददाता विधाननगर : राज्य में पांचवें चरण के मतदान संपन्न होने के बाद भी विभिन्न विधानसभा केन्द्र में चुनावी हिंसा जारी है। ताजा घटना विधाननगर आगे पढ़ें »

कारोना विस्फोट पर ममता ने मांगा प्रधानमंत्री से इस्तीफा

कोविड वैक्सीन की कमी को लेकर मोदी सरकार पर साधा निशाना सन्मार्ग संवाददाता बैरकपुर : बंगाल में विधानसभा चुनाव के बीच राज्य समेत देश भर में कोरोना आगे पढ़ें »

जिन राज्यों में चुनाव नहीं, वहां कोरोना के मामले अधिक : शाह

कोरोना संकट के बीच रेलवे ने कसी कमर, चलाई जाएंगी ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ ट्रेनें

कितने दिनों में कोविड मरीज ठीक होते हैं या हालत हो जाती है खराब, 14 दिन की लिमिट का क्या है मतलब

बटन इतना ज़ोर से दबाना कि बटन यहां दबे और करंट दीदी को कोलकाता में लगे – अमित शाह

मरीज तड़पता रहा, भर्ती कराने गए परिजनों को डॉक्टर कैमरे के सामने ही पीटते रहे

अमृता सिंह के साथ अपने रिश्ते को लेकर करीना ने खोला बड़ा राज, कहा – मैं उनसे कभी नहीं………..

घर में सो रहा था शख्स, सिर काट कर साथ ले गया कातिल

घर आई टीचर को पहले जान से मारा फिर हाथ-पैर बांध किया सेक्स, पत्नी और बच्चों की भी…

ऊपर