कोख में ही छिन गया जीने का हक, दहेज आत्महत्या कांड की दो बहनें थीं प्रेग्नेंट

जयपुर: जयपुर में तीन सगी बहनों की आत्महत्या की घटना दिल दहला देने वाली है। जयपुर के ग्रामीण क्षेत्र दूदू में तीन बहनों ने दो मासूम बच्चों सहित खुदकुशी कर ली। इन मृतकों में एक 20 दिन के नवजात और दूसरा चार साल का मासूम शामिल है, लेकिन इस हृदयविदारक घटना में दर्द सिर्फ इतना ही नहीं है, घटना में दो मासूम की मौत के साथ दुखद खबर यह है कि इसमें दो ऐसे नवजातों की मौत भी हो गई है, जो अभी तक इस दुनिया में आए ही नहीं थे। घटना में दो जिंदगियों के जीने का हक भी छीन लिया जो इस दुनिया में आने वाले थे। मिली जानकारी के अनुसार मृतक तीन बहनों में से दो बहन ममता और कमलेश गर्भवती थी। इनमें एक बहन के तो प्रसव का समय गुरुवार का था, लेकिन बुधवार को ही उसने आत्महत्या कर ली।
क्या हुई थी घटना
दरअसल दूदू के मीणा मोहल्ले से बीते कुछ दिनों पूर्व तीनों सगी बहन 27 वर्षीय कालू देवी , 23 वर्षीय ममता मीणा और 20 वर्षीय कमलेश मीणा लापता हो गई थी। इसके बाद जब पुलिस ने इस मामले की तफ्तीश की, तो तीनों बहनों और उनके बच्चों के शव शनिवार सुबह दूर नरैना रोड पर एक खेत में बने कुएं में मिले। घटना का खुलासा होते ही पूरे इलाके में हड़कंप मच गया। इसके बाद जब तीनों महिलाओं के परिजनों को इस मामले की जानकारी मिली, तो पीहर पक्ष ने ससुरालवालों को इसका जिम्मेदार बताया। सुसरालवालों ने बताया कि उनकी तीनों बेटियों की शादी एक ही परिवार में की थी। यह परिवार उनके साथ मारपीट करता था, उन्हें परेशान करता था।
सूत्रों के मुताबिक तीनों बहनें पढ़ाई-लिखाई में काफी अच्छी थी। जीवन में आगे बढ़ने के लिए जीतोड़ मेहनत भी कर रही थी, लेकिन पतियों और सुसरालवालों के जुल्म के आगे उन्होंने हार मान ली। मीडिया रिपोटर्स के अनुसार जयपुर के महरानी कॉलेज में पढ़ाई कर कमलेश ने सेंट्रल यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया था। वहीं ममता का चयन पुलिस कांस्टेबल की परीक्षा में हो गया था। बड़ी बहन कालू बीए फाइनल ईयर की पढ़ाई कर रही थी, जबकि इन तीनों बहनों के आरोपी पति पांचवीं-छठी क्लास तक ही पढ़े हुए थे। पुरखों की जमीन बेचकर वो जीवन काट रहे थे और कोई काम नहीं करते थे।
पति शराब के नशे में उन्हें मारते-पीटते थे
तीनों बहनों के अनपढ़ पति शराब के नशे में उन्हें मारते-पीटते थे। वहीं शकी मिजाज के भी बताए जाते हैं। तीनों शराब के नशे में उनसे मारते-पीटते थे। लिहाजा रोज-रोज के अपमान और शोषण से परेशान होकर तीनों बहनों ने मौत को गले लगाना ही उचित समझा और सामूहिक आत्महत्या कर ली। इस बात की पुष्टि भी सबसे छोटी बहन के वॉट्सएप स्टेट्स से हो गई है। पुलिस ने बताया कि तीनों महिलाओं में से एक ने वॉट्सऐप पर एक स्टेटस भी पोस्ट किया था, जिसमें उसने लिखा था कि वो अपने ससुराल वालों से परेशान हैं, इसलिए मर जाना बेहतर है।
पुलिस ने बताया कि सामूहिक आत्महत्या का कारण गृहक्लेश है। तीनों बहनों की शादी एक ही परिवार में हुई थी। दो साल पहले ससुराल पक्ष के लोगों पर दहेज प्रताड़ना का मामला दर्ज कराया था, लेकिन बाद में राजीनामा हो गया था। 15 दिन पहले भी तीनों बहनें गांव आई थी, लेकिन बाद में समझाइश के बाद वे ससुराल चली गईं।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

बुधवार को करें भगवान गणेश को प्रसन्न करने के उपाय

कोलकाता : जैसा कि आप सभी जानते हैं कि बुधवार का दिन भगवान श्री गणेश को समर्पित है, जो हमारे सभी दुखों को हर लेते आगे पढ़ें »

ऊपर