घर में लगे आईने का वास्तु से है गहरा संबंध, यहां लगाने से मिलता है लाभ

कोलकाता : वास्तुशास्त्र हर किसी के जीवन में अहम माना गया है वास्तु के अनुसार घर में दर्पण यानी शीशे का किस्मत से खास कनेक्शन होता है अगर दर्पण को सही दिशा में नहीं रखा जाए तो मनुष्य के जीवन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है वहीं अगर शीशे को सही दिशा में लगाया जाए तो घर परिवार की आर्थिक स्थिति बेहतर होती है साथ ही घर में सकारात्मकता बरकरार रहती है तो आज हम आपको आईने से जुड़े वास्तुटिप्स बता रहे हैं तो आइए जानते हैं।

जानिए आईन से जुड़े वास्तुटिप्स—
* वास्तुशास्त्र के अनुसार ब्रह्मांड की सकारात्मक शक्ति पूर्व से पश्चिम और उत्तर से दक्षिण की ओर चलती है ऐसे में शीशे को पूरब या उत्तर की दीवार पर इस तरह से लगाना चाहिए ताकि देखने वाले का चेहरा पूरब या उत्तर की ओर रहे।

*वास्तुशास्त्र के अनुसार दर्पण लगाने के लिए सबसे अच्छी दिशा पूरब, उत्तर या पूर्वोत्तर दिशा मानी गई है इस दिशा में आईना लगाने से घर में खुशहाली और सुख समृद्धि आती है वास्तु अनुसार घर की तिजोरी या आलमारी के सामने दर्पण लगाने से धन में बरकत होती है आईना लगाते वक्त इस बात का ध्यान रखना जरूरी है कि वह कहीं से भी टूटा हुआ नहीं होना चाहिए ऐसा आइना नकारात्मकता उतपन्न करता है।
* वास्तु के अनुसार बेडरूम में आईना कमरे के ओर ही लगाना चाहिए सोते वक्त शरीर का कोई भी हिस्सा आईने में नहीं दिखाई देना चाहिए क्योंकि इससे सेहत से संबंधित परेशानियां हो सकती है अगर कमरा छोटा होने के कारण आईना बेड के सामने ही है तो रात को सोते वक्त उस आईने को किसी कपड़े से ढक दें।
* इससे नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ता है। वही वास्तु के अनुसार घर के दक्षिण या पश्चिम दिशा में आईना नहीं लगाना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से घर में क्लेश बढ़ने लगता है इसके अलावा कमरे की दीवारों पर शीशा आमने सामने नहीं रखना चाहिए इससे घर में तनाव उत्पन्न हो सकता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

शिक्षक नियुक्ति में दुर्नीति को लेकर राज्य भर में विपक्ष का प्रदर्शन

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : शिक्षक नियुक्ति में दुर्नीति के विरोध में राज्य भर में माकपा की ओर से विक्षोभ दिखाया गया। इसके अलावा एकाधिक वाम छात्र आगे पढ़ें »

ऊपर