गुजरात बोर्ड में सामने आया सामूहिक नकल का मामला, सैकड़ों छात्रों ने लिखा एक ही जवाब

Students imitating the exam

अहमदाबाद : गुजरात में बोर्ड की परीक्षा में एक ऐसे सामूहिक नकल का मामला सामने आया है जिसे सुनकर लोग हैरान हैं। वहीं गुजरात सेकेंडरी ऐंड हायर सेकेंडरी बोर्ड एजुकेशन (जीएसएचएसईबी) के अधिकारी भी भौंचक्के रह गए जब उन्होंने इस मामले को पकड़ा। गुजरात बोर्ड की परीक्षा में इस तरह की सामूहिक नकल का यह अब तक का सबसे बड़ा मामला बताया जा रहा है।
सख्त उपायों के बाद भी ऐसी घटना
नकल पर रोक लगाने के लिए लगातार सख्त कदम उठाए जा रहे हैं। इसके बावजूद इस तरह की घटना सामने आना अपने आप में एक बड़ी बात है। बताया जा रहा कि नकल करने वाले परीक्षार्थियों के रिजल्ट पर 2020 तक रोक लगा दी गई है। इसके अलावा जिन विषयों में उन्होंने नकल किया है उनमें उन्हें फेल कर दिया गया है। जिन सेंटरों से नकल की शिकायत मिली थी अधिकारियों ने वहां की उत्तर पुस्तिकाएं जांचीं। बता दें कि ये सेंटर मुख्य रूप से जूनागढ़ और ‌गिर-सोमनाथ जिलों के हैं।
विद्यार्थियों ने एक जैसा लिखा था जवाब
गुजरात सेकेंडरी ऐंड हायर सेकेंडरी एजुकेशन बोर्ड के एक सूत्र ने बताया कि 959 परीक्षार्थियों ने एक सवाल का एक ही जैसा जवाब लिखा था। सिर्फ यहीं नहीं उत्तर का क्रम भी सभी परीक्षार्थियों का हूबहू था तथा सबने एक ही गलती की थी। जिन सेंटरों में परीक्षा हुई उनमें 200 परीक्षार्थियों ने एक निबंध- ‘बेटी परिवार का चिराग है’ को एक ही तरह से शुरू से लेकर अंतिम तक लिखा था। जिन-जिन विषयों में सामूहिक नकल के मामले सामने आए हैं उनमें अकाउंटिंग, इकोनॉमिक्स, अंग्रेजी और स्टैटिस्टिक्स शामिल हैं।
बोर्ड कर रहा परीक्षा को रद्द करने की तैयारी
बताया जा रहा कि बोर्ड अब अमरापुर (गिर-सोमनाथ), विसानवेल (जूनागढ़) तथा प्राची-पिपला (गिर-सोमनाथ) में 12वीं की परीक्षा के केंद्र रद्द करने की तैयारी में है। सामूहिक नकल के दावे की पुष्टि के बाद परीक्षार्थियों को एग्जाम्स रिफॉर्म्स कमिटी के सामने पेश किया गया जहां 959 परीक्षार्थियों के रिजल्ट पर रोक लगाने का फैसला लिया गया।
बाहरी छात्रों के रूप में किया था नामांकन
गौरतलब है कि कमेटी के सामने छात्रों को पेश करने पर उन्होंने बताया कि परीक्षा केंद्र पर शिक्षकों ने ही उन्हें उत्तर बोलकर लिखवाया। सबसे ज्यादा चिंताजनक स्थिति वोटाड, सुरेंद्रनगर, राजकोट और अहमदाबाद में देखी गई। यहां परीक्षार्थियों ने फाइनेंस स्कूल के बाहरी छात्रों के रूप में अपना नामांकन कराया हुआ था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ऊपर