अग्नि-2 का रात में हुआ सफल परीक्षण, चीन तक हमला करने में सक्षम

missile

ओडिशा : भारत ने शनिवार को ओडीशा के बालासोर से पहली बार रात्रिकालीन बैलेस्टिक मिसाइल अग्नि-2 का परीक्षण किया जो पूरी तरह सफल रहा। बैलेस्टिक अग्नि-2 मिसाइल परमाणु हमला करने में सक्षम है। बताया जा रहा है कि यह मिसाइल पाकिस्तान, चीन और दक्षिण एशिया के कई देशों तक हमला करने में सक्षम है। अग्नि 2 मिसाइल का परीक्षण अब्दुल कलाम द्वीप के 4 नंबर लांचिंग पैड से शनिवार रात 7:32 बजे किया गया। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) की सहायता से सेना के सामरिक बल कमान ने परीक्षण को अंजाम दिया। इस मौके पर डीआरडीओ तथा अंतरिम परीक्षण परिषद (आइटीआर) से जुड़े वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अधिकारियों का दल मौजूद था। कहा जा रहा है कि आने वाले समय में भारत और कई मिसाइलों का टेस्ट कर सकता है।

अग्नि-2 मिसाइल की यह है खासियत

अग्नि-2 मिसाइल को पूरी तरह से स्वदेशी है। यह मिसाइल 21 मीटर लंबी, 1 मीटर चौड़ी और 17 टन वजनी है। यह मिसाइल 1000 किलोग्राम तक विस्फोटक ले जाने में सक्षम है। इस मिसाइल की मारक क्षमता 2000 किलोमीटर है। यह ठोस ईंधन से संचालित बैलेस्टिक मिसाइल है। विशेषज्ञ का मानना है कि सतह से सतह पर मार करने वाली इस मध्यम दूरी की बैलेस्टिक मिसाइल के रात में हुए सफल परीक्षण को काफी अहम हैं। बता दें कि अग्नि श्रृंखला की अग्नि-1 और अग्नि-3 मिसालें पहले ही सेना में शामिल हो चुकी है।

जाने क्या है बैलेस्टिक मिसाइल

बैलेस्टिक मिसाइल उस प्रक्षेपास्त्र को कहा जाता है जिसका प्रक्षेपण पथ सब ऑर्बिटल बैलेस्टिक पथ होता है। इसका उपयोग किसी हथियार (परमाणु बम) को किसी पूर्व निर्धारित लक्ष्य पर दागने के लिए किया जाता है। यह मिसाइल प्रक्षेपण के प्रारंभिक स्तर पर ही गाइड की जाती है। इसके बाद का पथ आर्बिटल मैकेनिक के सिद्धांतों पर और बैलेस्टिक सिद्धांतों से तय होता है। अभी तक इसे रासायनिक रॉकेट इंजन द्वारा प्राणोदित किया जाता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में कोरोना के 1390 आये नये मामले

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 1390 नये मामले सामने आये आगे पढ़ें »

भारत में अल्पपोषित लोगों की संख्या छह करोड़ घटकर 14 प्रतिशत पर पहुंची : संयुक्त राष्ट्र

संयुक्त राष्ट्र : भारत में पिछले एक दशक में अल्पपोषित लोगों की संख्या छह करोड़ तक घट गई है। संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में आगे पढ़ें »

ऊपर