सोनिया हिंसा का राजनीतिकरण कर रही हैं, शाह के इस्तीफे की मांग हास्यापद : भाजपा

javdekar

नई दिल्ली : दिल्ली हिंसा के लिए केंद्र को जिम्मेदार ठहराने के कांग्रेस और सोनिया गांधी के बयान पर पलटवार करते हुए भाजपा ने बुधवार को कहा कि जिनके हाथ निर्दोष सिखों के खून से रंगे हों, वे अब हिंसा रोकने में सफलता-असफलता की बात कर रहे हैं। भाजपा का यह बयान ऐसे समय में आया है जब कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आरोप लगाया कि यह हिंसा एक सोचा-समझा षडंत्र है। भाजपा के कई नेताओं ने भड़काऊ बयान देकर नफरत और भय का माहौल पैदा किया। उन्होंने इसके लिए गृह मंत्री अमित शाह को जिम्मेदार ठहराते हुए उनके इस्तीफे की मांग की। भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने संवाददाताओं से कहा कि ‘गृह मंत्री पहले दिन से ही शांति बहाली के प्रयास में लगे हुए थे और पुलिस के साथ लगातर काम कर रहे हैं, निर्देश दे रहे हैं और मनोबल बढ़ाने में लगे हैं।’ शाह के इस्तीफे की कांग्रेस की मांग को हास्यास्पद बताते हुए जावड़ेकर ने कहा ‘कांग्रेस पूछ रही है कि अमित शाह कहां थे? अमित शाह ने कल सभी दलों की बैठक ली, जिसमें आप पार्टी के साथ-साथ कांग्रेस के नेता भी उपस्थित थे।’

हिंसा पर कांग्रेस का बयान दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कांग्रेस की ऐसी टिप्पणियों से पुलिस का मनोबल गिरता है। जावड़ेकर ने कहा कि ‘कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने दिल्ली की हिंसा पर जो बयान दिया है, वह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में हिंसा समाप्त हो रही है और सच्चाई सामने लाने के लिए जांच भी शुरु हो गई है। हमारा विश्वास है कि पुलिस की जांच में सच्चाई सामने आएगी।’ भाजपा के वरिष्ठ नेता जावड़ेकर ने किसी का नाम लिए बिना कहा कि जांच में यह बात भी सामने आ जायेगी कि किसने पथराव की तैयारी की, किसने वाहनों में आग लगाई और कौन पिछले दो माह से लोगों को उकसा रहा था।

जिनके हाथ सिखों के खून से रंगे हैं वे ऐसी बात करते हैं

जावड़ेकर ने कहा ‘अब हिंसा समाप्त हो रही है और सबका एक मात्र लक्ष्य है कि हिंसा पूर्ण रूप से रुके और स्थायी शांति हो। चर्चा के लिए तो संसद का सत्र है, वहां चर्चा कर सकते हैं।’ उन्होंने कहा कि अभी जांच की शुरुआत हुई है, ऐसे में सभी दलों की प्राथमिकता शांति स्थायी होना चाहिए। ‘लेकिन कांग्रेस इसके बजाय दोषारोपण करने लगी जिसकी हम भर्त्सना करते हैं। जिनके हाथ सिखों के खून से रंगे हों, वह यहां हिंसा रोकने में सफलता या असफलता की बात कर रहे हैं।’भाजपा नेता ने आरोप लगाया कि कांग्रेस की यही राजनीति है इसलिए जनता ऐसी टिप्पणियों पर संज्ञान ही नहीं लेती। उन्होंने कहा ‘हम उस स्तर पर जाना नहीं चाहते कि कौन कहां है, क्योंकि फिर लोग पूछेंगे कि (राहुल) बाबा कहां हैं?’

शेयर करें

मुख्य समाचार

ओलंपिक तैयारियों के लिये नये विदशी कोच की उम्मीद : चिराग-सात्विक

नयी दिल्ली : भारत के चिराग शेट्टी और सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी की पुरूष युगल जोड़ी इंडोनेशिया के फ्लांडी लिम्पेले के अचानक जाने के बाद अपनी ओलंपिक आगे पढ़ें »

वर्ल्ड कप 2011 : फाइनल में मैंने ही धोनी को ऊपर आने के लिए कहा था – सचिन

नयी दिल्‍ली : पूर्व भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर ने 2011 वनडे वर्ल्ड कप के जीत के क्षण को याद किया। सचिन ने कहा कि श्रीलंका आगे पढ़ें »

लॉकडाउन के बीच घर में ही टेनिस खेल रहे हैं दिग्गज खिलाड़ी 

फीफा ने टोक्यो ओलंपिक के लिए फुटबॉलरों की आयु सीमा बढ़ाई, अब 24 साल के खिलाड़ी भी खेल सकेंगे

टेस्ट स्पिनर स्टीफन ओकीफी ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट से संन्यास लिया

कोरोना : पीवी सिंधू 3 वर्ष तक रह सकती हैं वर्ल्ड चैंपियन

डोपिंग : थाईलैंड और मलेशिया के भारोत्तोलकों को टोक्यो ओलम्पिक में भाग लेने से प्रतिबंधित किया गया

कोरोना : बुजुर्गों और बच्चों को स्वच्छ खाना उपलब्ध कराएगी आईटीसी

स्‍टेडियम की असली ताकत उसमें मौजूद दर्शक होते है : विराट कोहली

पीएम-केयर्स फंड में स्टील कंपनियों ने 267.55 करोड़ रुपये दिए, सुपरमार्ट्स ने 100 करोड़ रुपये दिए

ऊपर