रोगी में जीने की चाह बढ़ाता है सामाजिक सहयोग

 

कैनेडियन विशेषज्ञों के अनुसार अगर किसी व्यक्ति को हार्ट अटैक हुआ हो तो दवाई के साथ-साथ उसे जरूरत होती है अपने परिवार और सगे-संबंधियों के सहयोग की जो उस व्यक्ति को निराशाजनक स्थिति से उबार सके और उसमें जीने के प्रति चाह व लगाव पैदा कर सके। मेकगिल यूनिवर्सिटी मांट्रियल के प्रोफेसरों के अनुसार अगर रोगी डिप्रेशन में हो तो सामाजिक सहयोग उसके जीवन जीने की चाह को बढ़ाने में मुख्य भूमिका अदा करता है। एक शोध में कुछ व्यक्तियों का अध्ययन किया गया जिन्हें हार्ट अटैक हुआ था। उनमें से एक तिहाई लोगों में डिप्रेशन पाया गया। डिप्रेशनग्रस्त हृदय रोगी के लिये न केवल उसके परिवार का सहयोग बल्कि सगे-संबंधियों, दोस्तों आदि का संपर्क भी सहारा देता है , जिससे उनका जीवन के प्रति लगाव बना रहता है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

ब्रेकिंग : घर में घुसकर तृणमूल कर्मी की गोली मारकर हत्या

कोलकाता : टीटागढ़ के ग्वाला पाड़ा में तृणमूल कर्मी के घर में घुसकर समा​​जविरोधियों ने उन्हें गोली मार दी। मौके पर ही उस ने दम आगे पढ़ें »

टेंगरा में लोहा गोदाम से लाखों की चोरी

कोलकाता : टेंगरा थानांतर्गत कैनल साउथ रोड स्थित एक गोदाम से लाखों रुपये का लोहा और कॉपर चुरा लिये गए। घटना को लेकर बैरकपुर के आगे पढ़ें »

ऊपर