घर बैठे इस आसान अंगुठे के टेस्ट से पता लगाये कहीं आपको दिल से जुड़ी बीमारी तो नहीं

वॉशिंगटन: एक सिंपल से थम टेस्ट से आप पता लगा सकते हैं कि आपको दिल से जुड़ी कोई गंभीर बीमारी तो नहीं है। येल यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन के डॉक्टरों का कहना है कि ये टेस्ट बेहद कारगर है और समय पर सही जानकारी प्रदान करने में मदद करता है। इस टेस्ट के जरिए आप पता लगा सकते हैं कि कहीं आपको छिपी हुई एओर्टिक एन्यूरिज्म (महाधमनी धमनीविस्फार) की समस्या तो नहीं है। इस स्थिति में धमकी की दीवारें धीरे-धीरे कमजोर पड़ने लगती हैं।

Early Diagnosis है बेहद जरूरी

‘द सन’ की रिपोर्ट में डॉक्टरों के हवाले से बताया गया है कि महाधमनी हमारे शरीर की सबसे बड़ी रक्त वाहिका होती है। यही हमारे दिल से रक्त लेकर शरीर के बाकी हिस्सों में पहुंचाती है। कुछ स्थितियों के कारण महाधमनी की दीवारों में गुब्बारे जैसी सूजन आ जाती है, जिससे धमकी की दीवारें कमजोर पड़ने लगती हैं, जो बेहद खतरनाक हैं। हालांकि, यदि जल्द इसका पता लग जाए तो खतरे को कम किया जा सकता है।

Aortic Aneurysm का कोई लक्षण नहीं

एओर्टिक एन्यूरिज्म का आमतौर पर कोई लक्षण नहीं होता और इसका केवल स्क्रीनिंग के माध्यम से पता लगाया जा सकता है। जब तक व्यक्ति को इसका आभास होता है, तब तक बहुत देर हो चुकी होती है। सूजन पूरी तरह फूले गुब्बारे जितनी बड़ी हो जाती है। इस स्थिति में आंतरिक रक्तस्राव और संभवतः मृत्यु हो सकती है। इस गुब्बारे के फटने के मामलों में 10 में से 8 लोगों की अस्पताल पहुंचने से पहले ही मौत हो जाती है।

ऐसे करें टेस्ट

डॉक्टरों के अनुसार, थम टेस्ट करना बेहद आसान है। इसके लिए सबसे पहले अपना हाथ उठाकर हथेली को फैलाएं। इसके बाद अंगूठे को छोटी उंगली की तरफ हथेली के दूसरे किनारे तक ले जाने का प्रयास करें। यदि अंगूठा हथेली से पार निकल जाता है, तो इसका मतलब है कि आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। डॉक्टरों का कहना है कि इस तरह से अंगूठे को हिलाने में सक्षम होना एक अप्रत्यक्ष संकेत है कि संबंधित व्यक्ति के जोड़ ढीले हैं। इसके साथ ही ये पूरे शरीर में संयोजी ऊतक रोग का भी संकेत है, जिसमें महाधमनी भी शामिल है।

305 लोगों पर किया गया Test

शोधकर्ताओं ने 305 लोगों पर थम टेस्ट किया और अमेरिकन जर्नल ऑफ कार्डियोलॉजी में अपने निष्कर्ष प्रकाशित किए। शोध के वरिष्ठ लेखक Dr John A Elefteriades ने बताया कि रिसर्च के दौरान यह पाया गया कि जो लोग अपने अंगूठे को फ्लैट पाम से आगे तक ले जाने में सक्षम थे, उनमें एओर्टिक एन्यूरिज्म का खतरा था। हालांकि, उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि ये जरूरी नहीं है कि इस तरह के लोगों में सूजन फटने की स्थिति में पहुंच गई हो। आमतौर पर इस अवस्था तक पहुंचने में कई साल लगते हैं।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

भाजपा में सब कुछ ठीक नहीं, अलग – अलग डफली, अलग – अलग राग

कोलकाता : ऐसा लगता है कि भाजपा में सब कुछ ठीक नहीं है। दरअसल, यहां अधिकतर नेता अलग - अलग डफली के साथ अलग - आगे पढ़ें »

काम की बात, किस दिन कौन सी दाल खाना शुभ

कोलकाता : हर व्‍यक्ति अपनी पसंद के अनुसार खाना खाता है, लेकिन ज्‍योतिष कहता है कि उसकी पसंद-नापसंद उसके जीवन पर भी अच्‍छा और बुरा आगे पढ़ें »

ऊपर