भुट्टा पकाने के दौरान घर में अचानक लगी आग, झुलसकर 6 बच्चों की मौत

अररियाः बिहार के अररिया में दिल दहला देने वाला मामला सामने आया, जब एक घर में आग लगने से 6 बच्चों की मौत हो गई। घटना पलासी प्रखंड के चहटपुर पंचायत स्थित कवैय्या गांव का है। जिसके बाद पूरे गांव में कोहराम मच गया। आग लगने के कारणों का स्पष्ट पता नहीं चल पाया है, लेकिन ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि पुआल के घर में ही सभी बच्चे खेलने के साथ ही मक्के का भुट्टा पका रहे थे। इसी दौरान चिंगारी से पुआल के घर में आग लग गई। अचानक आग लगते ही चीख-पुकार मच गई। ग्रामीणों ने तुरंत इस पर काबू पाने की कवायद शुरू की। हालांकि, तब तक काफी देर हो गई। आग इतनी तेजी से फैली की सभी बच्चे उसमें झुलस गए और उनकी मौके पर ही उनकी मौत हो गई। सूचना के बाद पलासी थाना पुलिस के साथ एसपी, एसडीपीओ और सदर एसडीओ मौके पर पहुंचे। उन्होंने तुरंत बच्चों के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए अररिया सदर अस्पताल भिजवाया।

बच्चों की उम्र 5 से 6 साल के बीच
मृतकों में दो बच्चियां हैं। सभी मृत बच्चे पांच से छह साल के हैं। मृतकों में मोहम्मद यूनिक का पांच साल का पुत्र अशरफ, मिन्हाज की छह साल की बच्ची मुन्नी, मोहम्मद फारूक का पांच साल का बेटा बरकश अली, मोहम्मद मतीन के पांच साल का पुत्र अली हासन, मोहम्मद तनवीर की पांच साल की बेटी खुशनियार, मोहम्मद मंजूर के छह साल का बेटा दिलवर है।
सूचना के बाद मौके पर एसपी हृदयकान्त, एसडीपीओ पुष्कर कुमार समेत एसडीओ और पलासी थाना पुलिस मौके पर पहुंची है। मामले की जांच की जा रही है। इस दर्दनाक घटना के बाद गांव में मातमी सन्नाटा पसर गया है। चारों ओर कोहराम मचा है। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोरोना संकट के बीच रेलवे ने कसी कमर, चलाई जाएंगी ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ ट्रेनें

नई दिल्लीः देश में कोरोना के मामले रोज नया रेकॉर्ड बना रहे हैं और इसके साथ ही देश के कई राज्यों में ऑक्सीजन की कमी की आगे पढ़ें »

कितने दिनों में कोविड मरीज ठीक होते हैं या हालत हो जाती है खराब, 14 दिन की लिमिट का क्या है मतलब

कोलकाताः भारत के साथ-साथ दुनिया के तमाम देशों में कोरोना वायरस का कोहराम जारी है। कोरोना के तेजी से बढ़ रहे मामलों की वजह से आगे पढ़ें »

ऊपर