आपको नपुंसक बना सकती हैं ये आदतें

कोलकाताः इरेक्टाइल डिस्फंक्शन बहुत से पुरुषों की समस्या है, पर उन्हें पता ही नहीं चलता कि उनकी रोजमर्रा की आदतें ही उनकी सेक्स लाइफ को बिगाड़ रही है। आप भी जानें इसके कारण, लक्षण और निवारण। पति-पत्नी के रिश्ते में प्यार की ताजगी को हमेशा बरकरार रखने में शारीरिक संबंधों की बहुत अहम भूमिका होती है, लेकिन बदलते लाइफस्टाइल के चलते अधिकांश पुरुष इरेक्टाइल डिसफंक्शन के शिकार होते जा रहे हैं। यह एक ऐसी समस्या है जो पुरुषों में आत्मविश्‍वास की कमी और अधूरेपन को दर्शाती है। क्या है इरेक्टाइल डिसफंक्शन, कैसे होती है ये समस्या और इसका निवारण कैसे होता है? चलिए जानते हैं। क्या है इरेक्टाइल डिसफंक्शन?

संभोग के दौरान पेनिस का उत्तेजित न होना या फिर कामोत्तेजना को देर तक बनाए रखने में असमर्थता, यह यौन क्रिया की एक ऐसी स्थिति है जिसे स्तंभन दोष, नपुंसकता, शीघ्रपतन या फिर इरेक्टाइल डिसफंक्शन कहा जाता है। इरेक्टाइल डिसफंक्शन का अर्थ है पेनिस में तनाव न आना या तनाव का बरकरार न रह पाना। इस स्थिति को इंपोटेंसी भी कहा जाता है जो 65 साल से अधिक उम्र के पुरुषों में बेहद आम है। इरेक्टाइल डिसफंक्शन की यह समस्या 40 वर्ष के करीब 5 फीसदी पुरुषों में पाई जाती है जो उम्र के साथ–साथ बढ़ती है। यह समस्या व्यक्ति के साथ उसके पार्टनर की सेक्सुअल लाइफ को भी प्रभावित करती है इसलिए समय पर इसका इलाज कराना अति आवश्यक है।

कारण

संभोग के दौरान आनंद की चरमसीमा तक पहुंचने के लिए लगातार पर्याप्त इरेक्शन का होना जरूरी है। अगर ऐसा नहीं होता है तो यह स्थिति आपके लिए चिंताजनक साबित हो सकती है। हालांकि यह बीमारी पुरुषों में कई कारणों से हो सकती है इसलिए इसके कारणों को जानना बहुत जरूरी है।

धूम्रपान

अगर आपको धूम्रपान करने की आदत है तो फिर ये आदत आपको इरेक्टाइल डिसफंक्शन का शिकार बना सकती है। सिगरेट पीने की वजह से शरीर में ठीक तरह से बल्ड सर्कुलेशन नहीं हो पाता है, जिससे बेड पर आपके परफॉर्मेंस में कमी आ सकती है।

शराब

अत्यधिक मात्रा में शराब का सेवन करने से धमनियों में खून का दौरा कम हो जाता है जिससे पेनिस तक पर्याप्त मात्रा में खून की सप्लाई नहीं हो पाती है। ऐसे में व्यक्ति नपुंसक हो सकता है या इरेक्टाइल डिसफंक्शन का शिकार हो सकता है।

दवाइयां

अगर आप हाई ब्लड प्रेशर या फिर तनाव को दूर करने के लिए दवाइयों का सहारा लेते हैं तो यह आदत आपके बेड लाइफ के लिए बिल्कुल भी ठीक नहीं है।

तनाव

तनाव या डिप्रेशन पुरुषों की सेक्स लाइफ के लिए बेहद खतरनाक माना जाता है। यह धीरे–धीरे बीमारी फैलाता है इसलिए तनाव या डिप्रेशन से खुद को दूर रखना चाहिए।

मोटापा

बढ़ते वजन या फिर मोटापे का सीधा असर पुरुषों के लिंग पर पड़ता है और मेल। हार्मोन्स का प्रोडक्शन धीमी गति से होने लगता है। इससे पहले कि मोटापा आपकी सेक्स लाइफ का दुश्मन बने, आपको अपने वजन को कंट्रोल करने को लेकर सीरियस हो जाना चाहिए।

हाई कोलेस्ट्रॉल

हाई कोलेस्ट्रॉल की वजह से रक्त की धमनियां पूरी तरह से ब्लॉक भी हो सकती हैं जिससे खून की सप्लाई धीमी पड़ जाती है। अगर ऐसा होता है तो फिर इसका दुष्परिणाम पुरुषों के प्राइवेट पार्ट को भुगतना पड़ सकता है।

हृदय रोग

बदलते लाइफ स्टाइल की वजह से दिल की बीमारी एक बड़ी बीमारी बनकर उभरी है। हृदय रोग व्यक्ति के शारीरिक संबंध का सबसे बड़ा दुश्मन बन सकता है और आपको इरेक्टाइल डिसफंक्शन का शिकार बना सकता है।

डायबिटीज

कुछ साल पहले डायबिटीज होने की औसत आयु 40 वर्ष हुआ करती थी जो अब घटकर 25 से 30 साल हो चुकी है। डायबिटीज के कारण खून की धमनियों और तंत्रिकाओं पर बुरा प्रभाव पड़ता है, जिससे इरेक्टाइल डिसफंक्शन की समस्या हो सकती है।

बढ़ती उम्र

जैसे–जैसे उम्र बढ़ती है व्यक्ति की यौन इच्छाओं में भी कमी आने लगती है। जो पुरुष यौन क्रिया में इच्छा नहीं रखते या फिर जिन्हें उत्तेजना नहीं होती, वे नपुंसक होते हैं लेकिन जो पुरुष उत्तेजित होते हैं लेकिन घबराहट के मारे जल्दी शांत हो जाते हैं, वे आंशिक नपुंसक होते हैं।

हाइपरलिपिडिमिया

हाइपरलिपिडिमिया एक बीमारी है। यह तब होता है जब आपके खून में बहुत अधिक लिपिड (वसा) होता है यानी कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स। इस बीमारी के कारण आपको इरेक्टाइल डिसफंक्शन या नपुंसकता की समस्या हो सकती है।

लक्षण

– काम क्रिया के दौरान अगर शीघ्रपतन की समस्या होती है तो यह इरेक्टाइल डिसफंक्शन हो सकता है।

– संभोग के दौरान अगर उत्तेजना में कमी हो तो यह इरेक्टाइल डिसफंक्शन या नपुंसकता का लक्षण हो सकता है।

– समय से पहले स्खलन और विलंब स्खलन भी नपुंसकता यानी इरेक्टाइल डिसफंक्शन का लक्षण है।

– पर्याप्त उत्तेजना के बाद भी संभोग सुख प्राप्त करने में असमर्थता इस बीमारी का लक्षण हो सकता है।

अगर ये समस्याएं दो या उससे अधिक महीने से हो रही हैं तो अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर ले लेना चाहिए।

 

 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

8 को वाममोर्चा कर सकता है उम्मीदवारों की घोषणा

वाम-कांग्रेस-आईएसएफ के बीच जटिलता लगभग समाप्त कोलकाता : काफी जटिलता के बाद वाम-कांग्रेस-आईएसएफ के बीच चुनावी समझौता अब अपने अंतिम दौर में है। कांग्रेस और आईएसएफ आगे पढ़ें »

आज आ सकती है तृणमूल की प्रार्थी तालिका

ममता की सीट पर सबकी नजरें कोलकाता : राज्य में चुनाव का बिगुल बज चुका है। चुनावी प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है। नहीं हुई है आगे पढ़ें »

ऊपर