सेक्स के दौरान पैरों को ऐसे छूना कर सकता है मदहोश

नई दिल्ली : संभोग क्रिया में लिप्त होने के बाद स्त्री और पुरुष दोनों के लिए उनके शरीर के हर अंग का महत्व होता है। हर महिला और पुरुष को पता होता है कि उसकी उत्तेजना के लिए उसका कौन-सा अंग जिम्मेदार है, या वह कौन-सा पार्ट है जिससे उसके पार्टनर को प्लेज़र (मज़ा) मिलता है। ह्यूमन बॉडी के पार्ट्स में शामिल पैर भी कुछ यही भूमिका निभाते हैं। सेक्स के दौरान पैरों का इस्तेमाल महिला और पुरुष दोनों को चरमसुख तक पहुंचा सकता है। आगे जानिए आखिर कैसे…
पैरों को मोड़कर पीछे कर लें
मिशनरी सेक्स पोजीशन के दौरान जब आपका पार्टनर आपके ऊपर हो, तब आपको दोनों पैरों को मोड़ते हुए अपने सीने की तरफ खींच लेना चाहिए। इससे संभोग काफी सुगम हो जाएगा और आनंद दोगुना बढ़ जाएगा। इस पोजीशन के चलते पार्टनर काफी देर तक सहवास करने के लिए टिक सकता है।
पैरों के इशारे
फोरप्ले के दौरान जब आपको लगने लगे कि अब पार्टनर आपकी योनि में अपना लिंग प्रवेश कराए, तो आपके पैर बहुत काम आ सकते हैं। इस दौरान आपको करना यह है कि अपने पैरों से उसको हल्का सा इशारा दें या फिर दोनों पैरों से उनको जकड़कर अपनी ओर खींच लें। बस, फिर क्या बिन बोले आपको जबरदस्त संतुष्टि मिलना शुरू हो जाएगी।
पैरों को फैला लें
एक ही पोजीशन में सेक्स करने ऊब जाएं तो आपको फौरन डॉगी स्टाइल में आ जाना चाहिए। अगर जब आप इस पोजीशन को ट्राई करें तो अपने पैरों को हल्का-सा और फैला लें ताकि मेल पार्टनर आपको पेनिट्रेट करने के लिए जबरदस्त तरीके से उत्तेजित हो जाए। आपको बता दें कि इस पोजीशन में पैर फैलाने से आपका मज़ा दोगुना हो जाएगा।
पैरों पर काम आएंगे स्टॉकिंग्स और सॉक्स
सेक्स करने से पहले पैरों पर डिजाइनर सॉक्स (मोजे) और सेक्सी स्टॉकिंग्स चढ़ाएं और फोरप्ले के दौरान उन्हें धीरे-धीरे उतारना शुरू करें या फिर अपने पार्टनर से उतारने के लिए कहें। आपको विश्वास नहीं होगा कि यह तरीका आपको और आपके पार्टनर को मदहोश कर देगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वैशाखी की सुरक्षा की मांग पर शोभन ने सीपी को भेजा पत्र

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : रत्ना चट्टोपाध्याय उनकी हत्या की साजिश रच रही है। इस बीच वैशाखी को बलि का बकरा बनाने की साजिश रची जा रही आगे पढ़ें »

हिंसा के खिलाफ डॉक्टरों ने किया प्रदर्शन

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के आह्वान पर राज्य में भी डॉक्टरों ने अपनी बिरादरी के सदस्यों के खिलाफ हिंसा से निपटने के लिए आगे पढ़ें »

ऊपर