झारखंड में स्कूलों का फिर से होगा विलय

रांची : झारखंड के सरकारी स्कूलों का एक बार फिर से विलय होगा। एक ही कैंपस में चल रहे अलग-अलग स्कूलों को मिलाकर एक स्कूल किया जाएगा। साथ ही वैसे स्कूल जो आसपास स्थित हैं उन्हें भी एक स्कूल में बदल दिया जाएगा। स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग इसकी तैयारी में जुटी है। शिक्षा विभाग ने सभी जिलों से इसकी रिपोर्ट तलब की है। माध्यमिक शिक्षा निदेशक हर्ष मंगला ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को पत्र लिखकर जानकारी मांगी है। सितंबर में शिक्षा सचिव राजेश शर्मा के नेतृत्व में हजारीबाग में स्कूलों का भ्रमण किया गया था। इस दौरान प्रमंडल की समीक्षा में पाया गया कि एक ही परिसर में और छात्राओं के लिए अलग-अलग स्कूल चल रहे हैं। वर्तमान हालात में अलग-अलग स्कूल का कोई औचित्य नहीं है। शिक्षा सचिव के निर्देश के आधार पर सभी जिलों से एक ही परिसर या नजदीक में चलने वाले कितने विद्यालय हैं जहां छात्रों और छात्राओं के लिए अलग-अलग स्कूल संचालित हैं। जिसे जिलों को 8 अक्तूबर तक उपलब्ध कराने को कहा गया है। जिलों को एक ही परिसर में अलग-अलग चल रहे स्कूलों के नाम, छात्र-छात्राओं की संख्या, शिक्षकों के स्वीकृत पद और कार्यरत पद के साथ-साथ दोनों स्कूलों को विलय कर एक विद्यालय के रूप में संचालित करने पर अपना विचार देने को कहा गया है। इसी तरह नजदीक क्षेत्र में विद्यार्थियों के लिए अलग-अलग चल रहे स्कूलों के नाम, छात्र-छात्राओं की संख्या, शिक्षकों के स्वीकृत व कार्यरत पद और दोनों स्कूलों को विलय कर एक ही स्कूल के रूप में संचालित करने पर अपनी राय देने को कहा गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

कैलाश विजयवर्गीय को हाई कोर्ट से मिली 30 तक राहत

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय सहित तीन भाजपा नेताओं को सोमवार को हाई कोर्ट से राहत मिल गई। जस्टिस देवांशु बसाक और जस्टिस आगे पढ़ें »

ऊपर