एसबीआई पर रिजर्व बैंक ने लगाया 7 करोड़ का जुर्माना, यह थी वजह…

State Bank of India

नई दिल्‍लीः देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई (स्टेट बैंक ऑफ इंडिया) को तगड़ा झटका लगा है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने एसबीआई पर 7 करोड़ रुपये का जुर्माना ठोक दिया है। यह जुर्माना एनपीए (नॉन-परफॉर्मिंग एसेट्स) और अन्‍य प्रावधानों से जुड़े नियमों का उल्‍लंघन करने की वजह से लगाया गया है। मालूम हो कि यूनियन बैंक ऑफ इंडिया (यूबीआई) पर भी 10 लाख का जुर्माना लगा ‌है।
नियमों की अनदेखी का आरोप
एसबीआई पर आय पहचान और संपत्ति वर्गीकरण (आईआरएसी) के नियमों को तोड़ने का आरोप है। इस बात की जानकारी केंद्रीय बैंक ने दी। आरबीआई ने बताया कि एसबीआई ने चालू खातों को खोलने और जारी रखने के लिए आचार संहिता (कोड ऑफ कंडक्ट) को भी अनदेखा किया। केवल इतना ही नहीं एसबीआई पर धोखाधड़ी और उसकी रिपोर्टिंग से जुड़े नियमों के उल्‍लंघन करने का भी आरोप है। केंद्रीय बैंक ने रिपोर्ट की जांच की और दूसरे महत्वपूर्ण दस्तावेज पर ध्यान देने ‌के बाद बैंक को नोटिस जारी कर इस बात की सूचना दी। बैंक की ओर से मिले जवाब और सुनवाई के वक्त उनके दलीलों पर गौर फरमाने के बाद केंद्रीय बैंक ने जुर्माना लगाने का फैसला किया।
यूबीआई पर भी लगा 10 लाख का जुर्माना
आरबीआई ने एसबीआई के साथ साथ यूनियन बैंक ऑफ इंडिया पर भी 10 लाख का जुर्माना लगाया है। साइबर सुरक्षा से जुड़े आदेशों का उल्‍लंघन करने की वजह से यह जुर्माना लगा है। रिजर्व बैंक ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि यूबीआई ने नियमों का पालन सही तरीके से नहीं किया जिसके कारण यह कदम उठाया गया। बता दें कि यह जुर्माना 9 जुलाई 2019 को लगाया गया था।
पहले भी रिजर्व बैंक हुई है सख्त
मालूम ‌हो कि रिजर्व बैंक ने मार्च के महीने में स्विफ्ट प्रणाली से जुड़े नियमों का समय अनुसार पालन नहीं करने के कारण सरकारी, निजी और विदेशी बैंकों समेत कुल 36 बैंकों पर 71 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया था। इसी प्रणाली का दुरुपयोग करके हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी ने पंजाब नेशनल बैंक के साथ 14,000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी को अंजाम दिया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

dead

निर्भया मामले में अपराधियों को तिहाड़ जेल नंबर-3 में दी जाएगी फांसी, तैयारियां शुरू

नई दिल्ली : निर्भया के चारों दोषी तिहाड़ जेल में बंद है। राष्ट्रपति की ओर से इन दोषियों को फांसी देने वाली दया याचिका पर आगे पढ़ें »

सरकारी कंपनियों के रणनीतिक विनिवेश में ढिलाई पर कैग ने किए सवाल

नई दिल्ली : सरकारी कंपनियों के रणनीतिक विनिवेश के लक्ष्य की प्राप्ति में ढिलाई पर कैग ने सरकार पर सवाल खड़ा करते हुए कहा है आगे पढ़ें »

ऊपर