डेयरी प्रोडक्ट्स को कहें बाय-बाय

यदि आप नाश्ते में ज्यादातर सफेद ब्रेड, डिब्बाबंद जूस, दही, दूध से बने पदार्थों का सेवन करते हैं तो ये हमारे रक्त में अतिरिक्त वसा को जमा कर देते हैं। आगे चलकर ये पुरुषों में प्रोस्टेट कैंसर, महिलाओं में गर्भाशय का कैंसर इत्यादि का खतरा पैदा कर देते हैं। विज्ञापनों में ऐसे खाद्य पदार्थों का प्रचार किया जाता है जो उच्च मात्र में रेशा होने व वसारहित होने का दावा करते हैं। ऐसे पदार्थों में कृत्रिम चीनी मिलाई जाती है जो सेहत के लिए अत्यंत हानिकारक हैं अत: ऐसे पदार्थों के सेवन से परहेज करें। दूध व पनीर को कैल्शियम युक्त माना जाता है लेकिन यह सच नहीं है। ये पदार्थ कैल्शियम की कमी को पूरा करने की बजाय अस्थिविकार का कारण बनते हैं। कैल्शियम की जरूरत को पूरा करने हेतु दूध से बने पदार्थों का सेवन करने की बजाय दो गिलास दूध का प्रतिदिन सेवन करें। इसके अलावा सोया दूध, हरी पत्तेदार सब्जियां, सूखे मेवे, ब्रोकोली, अनाज व फलियां इत्यादि ग्रहण करें।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

तो क्या, उर्वशी रौतेला ने कर ली गुपचुप शादी!

मुंबई : अपने ग्लैमर और लुक के लिए अक्सर चर्चे में रहने वाली बॉलीवुड एक्ट्रेस उर्वशी रौतेला एक बार फिर चर्चे में हैं। चर्चा का आगे पढ़ें »

सर्दियों में अमरूद के फायदे, बढ़ाती है रोग- प्रतिरोधक क्षमता

सर्दियों में पाए जाने वाले फलों में से एक है अमरूद। यह स्वाद में तो बहुत अच्छा होता ही है साथ ही यह सेहत बनाने आगे पढ़ें »

ऊपर