राजद ने की स्थानीय निवासियों के लिए आरक्षण की मांग

पटना : बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने राज्य से पलायन रोकने के लिए स्थानीय निवासियों को सरकारी नौकरी और शिक्षण संस्थानों में आरक्षण देने की मांग की है।
विधानसभा में शुक्रवार को राष्ट्रीय जनता दल के भोला यादव, अब्दुल बारी सिद्दीकी, चंद्रशेखर, विजय प्रकाश, राजेंद्र कुमार और शक्ति सिंह यादव के ध्यानाकर्षण सूचना के दौरान हस्तक्षेप करते हुए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि कि राज्य से बड़ी संख्या में लोग पलायन करते हैं। इनमें सबसे ज्यादा संख्या रोजगार की तलाश में जाने वाले लोगों की होती है। उन्होंने कहा कि बिहार में निचली अदालतों से लेकर प्रोफेसर तक के पद पर ज्यादातर लोग बिहार के बाहर के हैं। तेजस्वी ने कहा कि ऐसी स्थिति को देखते हुए राज्य सरकार को स्थानीय निवासियों के लिए सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थाओं में 90 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान करना चाहिए। इस पर जवाब देते हुए ऊर्जा मंत्री विजेंद्र प्रसाद यादव ने कहा कि राज्य में महिलाओं, दलितों, पिछड़ों-अति पिछड़ों के लिए 50 प्रतिशत तथा आर्थिक रूप से कमजोर ऊंची जातियों के लोगों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान है। इस तरह स्थानीय निवासियों के लिए 60 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान है। उन्होंने कहा कि यदि बिहार दूसरे राज्यों के लोगों को यहां काम करने से रोकेगा तो दूसरे राज्य भी ऐसा कर सकते हैं। इससे यहां के लोगों को ही परेशानी होगी। तेजस्वी ने कहा कि यह सही नहीं है कि सिर्फ बिहार के लोग ही काम की तलाश में बाहर जाते हैं। गुजरात, केरल और महाराष्ट्र जैसे संपन्न राज्य के लोग भी बेहतर नौकरी की तलाश में देश-विदेश जाते हैं। उन्होंने कहा कि यदि अन्य प्रदेशों ने स्थानीय निवासियों के लिए सरकारी नौकरी और शिक्षण संस्थाओं में 90 या शत-प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था की है तो इसकी लिखित जानकारी उपलब्ध कराएं फिर सरकार इस पर गंभीरता से विचार करेगी। इससे पहले राजद के भोला यादव ने ध्यानाकर्षण सूचना के दौरान कहा था कि आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु, झारखंड, पश्चिम बंगाल, मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र समेत देश के कई राज्यों में सरकारी नौकरी और शिक्षण संस्थानों में स्थानीय लोगों के लिए 75 से 100 प्रतिशत तक आरक्षण की व्यवस्था है जबकि बिहार में अभी तक स्थानीय आरक्षण नीति लागू नहीं है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लोगों को मेरे खेल के खत्म होने के बारे में लिखने की आदत है, मुझे फर्क नहीं : सुशील

नयी दिल्ली : दिग्गज पहलवान सुशील कुमार उम्र के ऐसे पड़ाव पर है जहां ज्यादातर खिलाड़ी संन्यास की घोषणा कर देते है लेकिन ओलंपिक में आगे पढ़ें »

कोरोना से हुए नुकसान को कम करने के लिए सरकार जल्द नए राहत पैकेजों की घोषणा करेगी

नई दिल्ली : कोरोना के कारण हुए लॉक डाउन के कारण देश की अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान हुआ है। वित्त मंत्रालय लगातार राहत पैकेज पर आगे पढ़ें »

ऊपर