मोटापा से गंभीर रोगों का खतरा

 

मोटापा न केवल आपकी सुंदरता को बिगाड़ता है, बल्कि वह स्वयं में एक बहुत बड़ा रोग है। प्राय: इस रोग को गंभीरता से नहीं लिया जाता पर इसके परिणाम बहुत ही गंभीर होते हैं। यह रोग कई अन्य रोगों का जन्दाता है जैसे हृदय रोग, हाइपरटेंशन, कैंसर, आर्थराइटिस, मधुमेह, जोड़ों में दर्द आदि। इतने गंभीर रोगों को जन्म देने वाला मोटापा कितना भयंकर हो सकता है, इसका अनुमान लगाना बहुत मुश्किल है। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन ने भी मोटापे को एक रोग परिभाषित किया है और पिछले कुछ वर्षों से इस रोग के रोगियों में असामान्य वृद्धि हुई है। यही नहीं, अगर आप इस रोग के शिकार हैं तो अापकी संतान में भी यह रोग हो सकता है इसलिए सही भोजन व सही जीवनशैली अपनाना आवश्यक है। सही भोजन से आप अपना वजन नियंत्रित रख सकते हैं। शारीरिक श्रम से आप अपने शरीर की अतिरिक्त कैलोरी को नष्ट कर चुस्त व स्वस्थ रह सकते हैं।

बदलती जीवन शैली ने खोखली कर दी हड्डियां

हड्डियों के लिए कैल्शियम खनिज तत्व एवं विटामिन डी आवश्यक हैं किंतु आधुनिक जीवन शैली के चलते यह उपयुक्त मात्रा में खानपान एवं जीवनचर्या से नहीं मिल पा रहा है। साथ नव संस्कृति के चलते बनी-बनाई हड्डियां कमजोर होती जा रही हैं। 25 वर्ष के युवा भी अस्थि भंगुर होने की स्थिति के शिकार हो रहे हैं। आराम पसंद जीवन शैली, श्रम विहीन जीवन चर्या एवं व्यायाम एवं सूर्यप्रकाश का अभाव साठ वर्ष की बजाय 25 वर्ष की आयु में इसका शिकार बना रहा है। वहीं धूम्रपान, मदिरापान, फास्ट फूड, कोल्ड ड्रिंक्स आदि मिलकर इस स्थिति की गंभीरता को बढ़ा रहे हैं। ये सब मिलकर भावी पीढ़ी की हड्डियों को कमजोर कर रहे हैं। नई पीढ़ी सबल रहे, हड्डियां मजबूत रहें, इसके लिए आवश्यक है कि खानपान पौष्टिकता से परिपूर्ण हों। धूम्रपान, मदिरापान, कोल्ड व साॅफ्ट ड्रिंक्स से दूर रहें। अपने दैनिक जीवन में श्रम व व्यायाम को महत्त्व दें।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

पहले टी-20 में भारत 11 रन से जीता

कैनबराः भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 3 टी-20 की सीरीज के पहले मैच में 11 रन से हरा दिया। टीम इंडिया पिछले 10 टी-20 मैच से आगे पढ़ें »

भारत में न्यूनतम मजदूरी पड़ोसी देशों से भी कम

नई दिल्ली : इंटरनेशनल लेबर आर्गनाइजेशन (आईएलओ) की नई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत के मजदूरों पर कोरोना माहामारी और लॉकडाउन की आगे पढ़ें »

ऊपर