दोस्त की बीवी से रिश्ता, 12 टुकड़ों में मिली लाश!

उत्तर प्रदेश : उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में भाभी ने देवर के साथ मिलकर अपने प्रेमी को मौत के घाट उतार दिया। इसके बाद देवर ने जिस्म के 12 टुकड़े कर घाघरा नदी में फेंक दिया। पुलिस ने सनसनीखेज घटना का खुलासा करते हुए आरोपी भाभी और देवर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

आइये जानते है क्या है पूरा मामला?
बाराबंकी शहर के रहनेवाला लवकुश जायसवाल एक रोज़ अचानक से कहीं गायब हो गए। शहर में कैंटीन चलानेवाले लवकुश ने 24 नवंबर की रात को अपने घर आने की बात कही, लेकिन वो ना तो घर लौटा और ना ही उनकी कोई खबर ही आई, ऊपर से उनका मोबाइल फ़ोन भी रहस्यमयी तरीक़े से स्विच्ड ऑफ़ हो चुका था। दूसरे दिन यानी 25 नवंबर को लवकुश के घरवाले उसे पूरे शहर में ढूंढते रहे। उसके काम करने की जगह से लेकर, नाते-रिश्तेदारों और दोस्तों के ठिकानों तक, लेकिन उसका कोई पता नहीं चला… और तब हार कर उन्होंने पुलिस थाने में दस्तक दी। लवकुश की बीवी आराधना ने पुलिस को उसके गायब होने की तहरीर देते हुए उसे ढूंढ निकालने की फरियाद की। इस बीच जब घरवालों ने उसके कैंटीन में फ़ोन किया, तो पता चला कि लवकुश तो बीती रात यानी 24 नवंबर को ही घर जाने के लिए निकल चुका था। ये जानकारी सामने आते ही उसकी गुमशुदगी का मामला थोड़ा और पेचीदा हो गया। सवाल ये था कि अगर वो घर जाने के लिए निकला था, तो आख़िर गया कहां। इसके बाद करीब 10-12 रोज़ गुज़र गए, लेकिन लवकुश की गुमशुदगी का मामला एक इंच भी आगे नहीं बढ़ा। पुलिस भी कान में तेल डाल कर सोती रही। पूरा मामला क्लू लेस बना रहा। इस बीच लवकुश की बीवी आराधना ने ज़िले के एसपी से नए सिरे से फरियाद कर मामले की जांच करने की गुहार लगाई। एसपी के कहने पर रामनगर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर छानबीन शुरू की तफ्तीश में पुलिस ने मैनुअल पुलिसिंग के साथ-साथ टेक्नीकल सर्विलांस की भी मदद ली और तब कुछ ऐसी बातें उभर कर सामने आईं, जिन्होंने पुलिस के माथे पर बल डाल दिया। पुलिस को पता चला कि लवकुश का बाराबंकी के ही अमोली कलां गांव की रहनेवाली एक महिला के घर आना-जाना था… असल में ये महिला उसके एक दोस्त की बीवी थी और इन दिनों उसका दोस्त ड्रग्स के एक केस में जेल में बंद था। लवकुश के दोस्त रितेश को पुलिस ने इसी साल फरवरी के महीने में एनडीपीएस एक्ट के एक मामले में गिरफ्तार किया था और इसके बाद से वो लगातार जेल में ही था… इस बीच लवकुश अपने दोस्त रितेश की बीवी प्रतिभा सिंह से हमदर्दी दिखाने लगा और हमदर्दी दिखाते-दिखाते दोनों एक दूसरे के क़रीब आ गए। अब दोस्त की गैरहाज़िरी में लवकुश का रितेश के घर आना-जाना शुरू हो गया। छानबीन में पुलिस के लवकुश और प्रतिभा के रिश्तों की बात तो पता चल चुकी थी, लेकिन क्या इस गुमशुदगी से लवकुश के इस रिश्ते का ही कोई लेना-देना था या फिर कहानी कुछ और थी… मामले की छानबीन कर रही पुलिस के पास लवकुश और प्रतिभा के मोबाइल फ़ोन की सीडीआर यानी कॉल डिटेल रिकॉर्ड सामने आई, तो ये कहानी थोड़ी और साफ़ हो गई… पता चला कि 24 नवंबर को यानी जिस रोज़ लवकुश अपनी कैंटीन से गायब हुआ था, उस रोज़ भी लवकुश और प्रतिभा की फ़ोन पर ना सिर्फ़ लंबी बातचीत हुई थी, बल्कि दोनों के बीच हुई ये बातचीत ही उसकी मोबाइल फ़ोन पर हुई आख़िरी बातचीत थी… अब ये बात तकरीबन साफ़ हो चुकी थी कि लवकुश की गुमशुदगी से प्रतिभा सिंह का कोई ना कोई लेना-देना ज़रूर है… इत्तेफ़ाक से पुलिस को लवकुश के मोबाइल फोन की लास्ट लोकेशन भी अमोली कलां गांव के पास ही मिली, जिसके बाद उसका फ़ोन रहस्यमयी तरीक़े से स्विच्ड ऑफ़ हो चुका था…अब पुलिस ने बिना देर किए प्रतिभा को इंटरसेप्ट कर उससे पूछताछ शुरू की… प्रतिभा ने पहले तो पुलिस को तमाम झूठी-सच्ची कहानियां सुनाईं, लेकिन उसके बाद उसने मान लिया कि लवकुश की गुमशुदगी में ना सिर्फ़ उसका हाथ है, बल्कि उसी ने अपने देवर सर्वेश सिंह के साथ मिल कर लवकुश की हत्या कर दी है… अब पुलिस ने बगैर देर किए प्रतिभा के साथ-साथ उसके देवर सर्वेश को भी धर दबोचा… इसके बाद दोनों ने पुलिस को क़त्ल की जो कहानी सुनाई, वो बहुत चौंकानेवाली थी… सवाल ये था कि आख़िर प्रतिभा ने खुद ही अपने हाथों से अपने आशिक़ का क़त्ल क्यों कर दिया? दरअसल, प्रतिभा और लवकुश के रिश्तों की खबर अब घर की चारदिवारी से बाहर निकल चुकी थी… ऐसे में प्रतिभा के देवर सर्वेश ने उस परलवकुश से पीछा छुड़ाने के लिए दबाव बनाना शुरू कर दिया। पहले तो प्रतिभा ना नुकुर करती रही, लेकिन बाद में उसने भी सर्वेश की बात मान ली और दोनों ने लवकुश को ठिकाने लगाने के लिए उसका क़त्ल करने का फैसला कर लिया… और फिर तो तय साज़िश के मुताबिक दोनों ने जिस तरह से इस वारदात को अंजाम दिया, वो अपने-आप में एक कहानी बन गई…देवर-भाभी यानी सर्वेश और प्रतिभा अब लवकुश का क़त्ल कर चुके थे… लेकिन क़त्ल का राज़ दुनिया की निगाहों से छुपाए रखना बेहद ज़रूरी था… और बस इसी के चलते सर्वेश और प्रतिभा ने मिल कर उसकी लाश के टुकड़े करने का फ़ैसला किया… सर्वेश एक बोरी में लवकुश की लाश पैक करने के बाद साइकिल में रख कर अमोलीकलां से बाकां लेकर गया… वहां सर्वेश ने तेज़धार हथियार से लवकुश की लाश के 12 टुकड़े किए। ताकि लाश को निपटाना भी आसान हो और ना तो वो कभी बरामद हो और ना ही पुलिस के हाथ कोई सबूत ही लगे। सीओर दिनेश कुमार दुबे ने बताया कि यह बात महिला के देवर को पता चली, फिर उसने लवकुश को मारने का प्लान बनाया। महिला ने लवकुश को घर पर बुलाया और उसके देवर ने हत्या कर दी, फिर लवकुश की लाश के 12 टुकड़े किए गए और सभी टुकड़ों को एक-एक करके घाघरा नदी में फेंक दिया गया।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

क्या आप भी सर्दियों में रात को स्वेटर पहनकर सोते हैं?

नई दिल्ली : इन दिनों सर्दियों का मौसम चल रहा है, जिसके चलते इंसान ठिठुरने को मजबूर हो जाता है। सर्दियों के इस मौसम में आगे पढ़ें »

ऊपर