गुस्से में भी नहीं बोलनी चाहिए अपने पार्टनर को यह 4 बातें

कोलकाता : इस बात में कोई दो राय नहीं कि हमारे द्वारा कहे गए शब्द शक्तिशाली होते हैं, जिनका उपयोग संबंध बेहतर बनाने से लेकर एक रिश्ते को नष्ट करने के लिए किया जा सकता है। लेकिन दुर्भाग्य से, क्रोध जैसी भावनाओं में शब्दों का असर सबसे ज्यादा देखने को मिलता है, जहां दो लोगों के बीच शुरू हुई बातचीत भयंकर रूप ले लेती है। एक-दूसरे को हर्ट करने के चक्कर में ज्यादातर लोग खराब से खराब बात बोल देते हैं, जिसका असर सीधा उनके रिश्ते पर भी पड़ता है।
तुम मेरे प्यार के लायक नहीं हो
हम मानते हैं कि आप उस वक्त बहुत गुस्से में थे, जब आपने अपने पार्टनर से कहा था कि वह आपके लायक नहीं है। लेकिन जरा सोचिए अगर यह बात उनके मन में बैठ गई तो यह आपके रिश्ते के लिए कितनी खराब होगी। कभी भी अपने पार्टनर को इस बात का एहसास नहीं दिलाएं कि आप उन्हें अपने लायक नहीं समझते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि यही छोटी-छोटी बातें रिश्ते तोड़ने का कारण बनती हैं।
तुमसे ज्यादा घटिया आदमी मैंने नहीं देखा
जिससे हम सबसे ज्यादा प्यार करते हैं, उसे हम कभी भी हर्ट नहीं करना चाहते हैं लेकिन रियल लाइफ में होता उसका उल्ट ही है। पार्टनर के लिए न केवल ‘घटिया-बेहूदा’ जैसे शब्द इस्तेमाल करना गलत है बल्कि यह भावना उन्हें काफी ठेस भी पहुंचाती है। भले ही आप कितने भी गुस्से में क्यों न हों लेकिन भावनाओं को समझाकर और सीधे अनुरोध करके भी अपने पार्टनर को उनकी गलती का एहसास करा सकते हैं।
तुम्हारे साथ आकर जिंदगी बर्बाद हो गई
जब हम इमोशनल टेम्पर से गुजरते हैं, तो हमारे दिमाग में ऐसी तमाम बातें आने लगती हैं, जो एक झटके में आपकी सारी इमेज को खराब कर सकती हैं। मान लीजिए आपने सुबह ही अपने पार्टनर से प्यार भरे वादे किए हैं। लेकिन गुस्से में आपने उन्हें इतना भला-बुरा बोल दिया कि अब उन्हें आपकी सभी बातें झूठी लगने लगेंगी। हम किसी के विचारों, व्यवहारों या भावनाओं को नियंत्रित नहीं कर सकते हैं लेकिन हम चाहें तो खुद कंट्रोल कर सकते हैं। अगर आपका पार्टनर गुस्से में हैं, तो इस दौरान खुद को शांत रखने की कोशिश करें।
हासिल ही क्या कर पाए हो तुम?
जिस व्यक्ति का गुस्सा खराब होता है, उस व्यक्ति की सबसे बड़ी कमज़ोरी यही होती है कि वह अपने शब्दों की वजह से अक्सर अपने रिलेशन को खराब कर बैठता है। हालांकि, ऐसे व्यक्तियों के लिए यह मान लेना ज्यादा अच्छा है कि विभिन्न राय रखने की वजह से भी क्रोध और संघर्ष पैदा होता है और जब बात हो पति-पत्नी जैसे नाजुक रिश्ते की तो यह चीजें ज्यादा खराब होने लगती है। हालांकि, हम ऐसा बिल्कुल नहीं कह रहे हैं कि आप उनकी गलत बातों को भी सही मान लेकिन कोशिश करें कि आपके विचारों का असर आपके रिश्ते पर न पड़ें।

शेयर करें

मुख्य समाचार

फिर अशान्त हुआ भाटपाड़ा, बमबारी में युवक की गई जान

भाटपाड़ा : चुनाव परिणाम आने के बाद भी बैरकपुर शिल्पांचल के कई इलाके अभी भी राजनीतिक संघर्ष के कारण अशांत बने हुए हैं। इस क्रम आगे पढ़ें »

कांग्रेस नेता और राज्यसभा सांसद राजीव सातव का कोरोना से उबरने के बाद निधन

पुणे: कांग्रेस सांसद राजीव सातव का रविवार को एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। कुछ दिनों पहले ही वह कोविड से उबर गए थे। आगे पढ़ें »

ऊपर