Rath Yatra 2023 : आखिर क्यों हर 12 साल में बदली जाती हैं महाप्रभु की मूर्तियां

शेयर करे

पुरी : जब भी हम भगवान जगन्नाथ की बात करते हैं तब सबसे पहले रथ यात्रा का ही ख्याल आता है। यह यात्रा वास्तव में बहुत खास होती है और इसमें देश विदेश से लोग हिस्सा लेते हैं। इस यात्रा में भगवान जगन्नाथ के साथ उनके भाई बलराम और बहन सुभद्रा भी शामिल होते हैं।

यह यात्रा 12 दिनों तक चलती है और इसका विशेष महत्व होता है। आज भी भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा के दौरान मौसी के घर गुंडिचा देवी मंदिर की ओर प्रस्थान करते हैं। वहीं एक प्रथा है कि जगन्नाथ मंदिर के मंदिर की मूर्तियां आज भी अधूरी हैं और हर 12 साल बाद इन्हें बदला जाता है।

12 साल बाद क्यों बदली जाती हैं मूर्तियां 

ऐसा माना जाता है कि जगन्नाथ मंदिर की मूर्तियां हर 12 साल के बाद बदली जाती है। दरअसल जगन्नाथ मंदिर में भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और बहन सुभद्रा की लकड़ी की मूर्तियां हैं। इन मूर्तियों को हर 12 साल में बदलने की परंपरा सदियों से चली आ रही है।

यही नहीं जिस समय मूर्तियां बदली जाती हैं उस समय पूरे शहर की बत्तियां बंद कर दी जाती हैं और हर जगह अंधेरा कर दिया जाता है। यह इस वजह से किया जाता है जिससे मूर्तियों को बदलने की प्रक्रिया को गोपनीय रखा जा सके। मूर्तियों को बदलते समय केवल एक मुख्य पुजारी वहां मौजूद होता है और उसकी आंखों में भी पट्टी बांध दी जाती है। यह इसलिए किया जाता है जिससे कि मूर्तियों को बदलने की प्रक्रिया पूरी तरह से गोपनीय रहे।

पुरी में आज भी धड़कता है श्री कृष्ण का दिल 

ऐसी मान्यता है कि जब भगवान श्रीकृष्ण ने अपनी देह त्यागी उस समय उनका दिल पुरी में ही रह गया और आज भी वो मूर्तियों के बीच ब्रह्म रूप में मौजूद हैं। जिस समय श्री कृष्ण का अंतिम संस्कार हुआ वह अपना ह्रदय छोड़ गए। यहां की मूर्तियों में साक्षात रूप में भगवान जगन्नाथ मौजूद होते हैं, इसलिए उनके पूजन को आज भी भक्त शुभ मानते हैं।

मूर्तियां बदलने की प्रक्रिया नवकलेबारा होती है 

 

भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा की मूर्तियों को हर 12 साल में बदला जाता है और इस अनुष्ठान को नवकलेबारा नाम दिया जाता है। इसके कई कारण माने जाते हैं जिनमें से कुछ के बारे में हम आपको बता रहे हैं –

  •      चूंकि जगन्नाथ जी की मूर्तियां लकड़ी की बनी हुई हैं और उनके क्षय होने का डर रहता है इसलिए इन्हें हर 12 साल बाद बदला जाता है। चूंकि ये मूर्तियां नीम की लकड़ी से बनाई जाती हैं और उनके जल्दी खराब होने का डर होता है, इस वजह से इसे बदलना ही ठीक होता है। ऐसा माना जाता है कि यदि मूर्तियों को बदला नहीं जाता है तो इनके खराब होने का भय होता है।
  • हिंदू धर्म में, मूर्तियां केवल देवताओं का प्रतिनिधित्व नहीं करती हैं, बल्कि उन्हें स्वयं देवताओं की वास्तविक अभिव्यक्ति के रूप में भी देखा जाता है। इस प्रकार, यह माना जाता है कि भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा की मूर्तियां निर्जीव नहीं हैं, बल्कि जीवित प्राणी हैं जिसकी देखभाल करने की ज्यादा आवश्यकता है।
  •   नवकलेबारा अनुष्ठान देवताओं की ऊर्जा को नवीनीकृत करने का एक तरीका है। नवकलेबारा अनुष्ठान को देवताओं की ऊर्जा और जीवन शक्ति को नवीनीकृत करने के एक तरीके के रूप में देखा जाता है। इसमें पुरानी मूर्तियों की जगह नई मूर्तियां लगाने से यह माना जाता है कि देवता अपने भक्तों को आशीर्वाद देना आगे भी जारी रखेंगे।
  • नवकलेबारा अनुष्ठान हिंदू कैलेंडर में एक प्रमुख घटना है और इसे बहुत ही धूमधाम और समारोह के साथ मनाया जाता है। दुनिया भर से लाखों भक्त पुरी में अनुष्ठान देखने और देवताओं को अपना सम्मान देने के लिए आते हैं।

नवकलेबारा अनुष्ठान की ख़ास बातें 

  •  जगन्नाथ मंदिर के मुख्य पुजारी नई मूर्तियों के लिए सबसे पहले सही पेड़ों का चयन करते हैं। पेड़ नीम के ही होने चाहिए जो कम से कम 100 साल पुराने हों और उसमें किसी प्रकार का दोष न हो।
  • इन पेड़ों को काटकर मंदिर में लाया जाता है। लकड़ी को फिर तीन देवताओं के आकार में उकेरा जाता है। फिर नई मूर्तियों को कपड़े, गहने और सजावट सामग्रियों से सजाया जाता है।
  • पुरानी मूर्तियों को फिर कोइली बैकुंठ नामक मंदिर में एक विशेष स्थान पर ले जाया जाता है। इसके बाद पुरानी मूर्तियों को कोईली बैकुंठ में ही विसर्जित कर दिया जाता है।
  • इसके बाद नई मूर्तियों को जगन्नाथ मंदिर के गर्भगृह में स्थापित किया जाता है और फिर भक्तों द्वारा नई मूर्तियों की पूजा की जाती है।
  • नवकलेबारा अनुष्ठान जीवन की नश्वरता और नवीनीकरण के महत्व का प्रतीक है।

 

Visited 276 times, 1 visit(s) today
0
0

मुख्य समाचार

कोलकाता : बुधवार का दिन गणेश भगवान को समर्पित है। इस दिन पूरे विधि विधान से गणपति की पूजा की
हावड़ा : तीन युवकों पर शनिवार को 12 साल की बच्ची से सामूहिक दुष्कर्म कर उसे दफनाने का आरोप लगा
कल मुहर्रम पर महानगर में सुरक्षा चाक-चौबंद, ट्रैफिक होगी प्रभावित करीब 4 हजार पुलिस कर्मी रहेंगे तैनात कल शहर में
कोलकाता : 6 दोस्त मंदारमणि की यात्रा पर गए थे। सभी लोग समुद्र में स्नान करने गये। तभी 2 लोगों
रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया हुई शुरू कोलकाता : माध्यमिक शिक्षा बोर्ड कक्षा 9 की रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू करने जा रहा है। इसे
एक नजर प्याज : 50 रु. प्रति किलो टमाटर : 100 रु. प्रति किलो कोलकाता : पश्चिम बंगाल टास्क फोर्स
संजय मुखर्जी को बनाया गया डीजी दमकल कोलकाता : लोकसभा चुनाव और विधानसभा के उपचुनाव खत्म होते ही एक बार
कोलकाता : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के निर्देश के बाद ईबी व टास्क फोर्स द्वारा मिलकर महानगर के विभिन्न बाजारों में
कोलकाता : कोलकाता में सोमवार को भगवान जगन्नाथ के 53वां उल्टा रथयात्रा का आयोजन किया गया। इस्कॉन कोलकाता के सौजन्य
कोलकाता : महानगर व आसपास क्षेत्रों के 19 अहम ब्रिज और फ्लाईओवर की मरम्मत की जायेगी। केएमडीए ने इसकी तालिका
कोलकाता : राज्य के मोटर ट्रेनिंग स्कूलों पर परिवहन विभाग द्वारा नकेल कसी जाने के लिये कई अहम कदम उठाये
कोलकाता : महानगर में पिछले पांच सालों में 30 से ज्यादा फायरिंग की घटनाएं घट चुकी हैं। यह जानकारी हाल
ऊपर