जिसे मृत मानकर कर दिया था अंतिम संस्‍कार, 10 दिन बाद अचानक…

जयपुर : राजस्थान के राजसमंद जिले में एक परिवार ने एक शव की पहचान अपने पारिवारिक सदस्य के रूप में करते हुए उसका अंतिम संस्कार कर दिया, लेकिन वे एक सप्ताह बाद तब भौचक्के रह गए जब वह व्यक्ति सही सलामत घर वापस लौट आया जिसे परिजनों ने मृत मान लिया था। सम्बद्ध अस्पताल ने माना है कि उसे नर्सिंग व मोर्चरी स्टाफ में तालमेल के अभाव व गलती के कारण ऐसा हुआ। पुलिस ने बताया कि यह घटना राजसमंद जिले की कांकरोली की है। पुलिस के अनुसार शराब का आदी ओंकार लाल (40) 11 मई को बिना परिवार को बताए उदयपुर चला गया और वहां उसे उसके लीवर में कुछ दिक्कत होने पर उसे अस्पताल में भर्ती करवाया गया। उन्होंने बताया कि वहीं उसी दिन मोही इलाके से गोवर्धन प्रजापत को भी स्वास्थ्य संबंधी दिक्कत के चलते 108 एंबुलेंस से आर के अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जिसकी उपचार के दौरान मौत हो गई और उसका शव मुर्दाघर में रखवाया गया।
क्‍या है मामला?
कांकरोली के थाना प्रभारी योगेंद्र व्यास ने बताया, ‘हमें अस्पताल अधिकारियों से एक पत्र मिला कि एक शव मुर्दाघर में तीन दिन से है और कोई वारिस सामने नहीं आया है। उन्होंने बताया कि हमने शव की पहचान के लिए फोटो भी जारी किया।’
वहीं 15 मई को दर्जन भर लोग अस्पताल आए और उस शव को ओंकार लाल गडुलिया का बताया। पुलिस को इस बारे में सूचित किया गया और परिवार के सदस्यों ने लिखित में दिया कि शव का पोस्टमार्टम किए बिना ही उन्हें सौंप दिया जाए, ताकि वे अंतिम संस्कार कर सकें।
इस वजह से हुई गलती
शव के हाथ पर निशान व शारीरिक बनावट एक जैसी होने के कारण परिवार के सदस्यों ने गलती से शव को ओंकार लाल का मान लिया। पुलिस ने भी बिना पोस्टमार्टम व डीएनए टेस्ट करवाए शव उनको सौंप दिया।
व्यास ने कहा कि अगर शव की पहचान न हो तो मेडिकल बोर्ड द्वारा उसका पोस्टमार्टम किया जाता है, डीएनए जांच करवाई जाती है। चूंकि शव की पहचान की गई और बिना पोस्टमार्टम के सौंपने का आग्रह किया गया था इसलिए कोई कार्रवाई नहीं हुई।
10 दिन सब रह गए भौचक्‍क
उन्होंने बताया कि इस शव का 15 मई को अंतिम संस्कार किया गया। ओंकार लाल के बच्चों ने शोक में सिर मुंडवा लिए, लेकिन 23 मई को वे उस वक्त भौचक्क रह गए जब ओंकार लाल खुद घर पहुंचा गया ।
बाद में पुलिस जांच में सामने आया कि जिस शव का अंतिम संस्कार ओंकार लाल मानते हुआ किया गया, वह दरअसल गोवर्धन प्रजापत का था। व्यास के अनुसार इसमें पुलिस की कोई गलती नहीं है, क्योंकि अस्पताल के अधिकारियों ने शव को अज्ञात बताया था और सम्बद्ध लोगों ने उसकी पहचान कर उसे अपना परिजन बताया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

टूटे हुए बाल रातोंरात बना देंगे लखपति, जानिए कैसे

नई दिल्ली: अक्सर लोग अपने टूटे हुए बालों से परेशान रहते हैं। इसके लिए वे कई ट्रीटमेंट लेते हैं और लाखों रुपए खर्च कर देते हैं, आगे पढ़ें »

बारिश शुरू होते ही गड्ढों से पट गयीं कोलकाता की सड़कें

पिछले कुछ दिनों में हुईं सड़क दुर्घटनाएं 16 जून : मैदान : प्राइवेट कार ने 2 बाइक सवारों को धक्का मारा 12 जून : तारातला : मोटर आगे पढ़ें »

ऊपर