सनकी डॉक्टर : पुलिस ने पूछा- कितनी कोख उजाड़ी, हैवान ने हंसकर कहा- गिनती भूल गया

जोधपुर : राजस्थान की पीसीपीएनडीटी टीम ने जोधपुर में शुक्रवार सवेरे एक बड़ा हाथ मारा। पुलिस ने एक ऐसे पागल सनकी डॉक्टर को पकड़ा जो कोख उजाड़ने का शौक रखता था। सात से 9 साल में ही वह करोड़पति हो गया और फिर भी उसने इस काम को नहीं छोड़ा। पुलिस की टीम ने जब उससे सवाल किया कि तुमने कुछ सालों में कितनी कोख खत्म की.?  क्या तुम्हें पता है? तो उसने हंसते हुए जवाब दिया 100 के बाद मैं गिनती भूल गया मुझे अब कुछ याद नहीं। इस सनकी डॉक्टर के खिलाफ अब पीसीपीएनडीटी की टीम सख्त सबूत और गवाह जमा कर लंबे समय के लिए उसे सलाखों के पीछे धकेलने की रूपरेखा तैयार करने में जुट गई है।

प्रदेश का पहला हिस्ट्रीशीटर डॉक्टर है इम्तियाज 
पीसीपीएनडीटी की टीम ने बताया कि जोधपुर में शुक्रवार सुबह लिंग परीक्षण करने के नाम पर जिस डॉक्टर इम्तियाज को पकड़ा गया है। वह करीब चार साल पहले हिस्ट्रीशीटर घोषित किया जा चुका है। उसके खिलाफ इतने केस हैं कि कई थानों की पुलिस उसकी तलाश में थी। चार बार उसे पहले गिरफ्तार किया जा चुका था और अब पांचवी बार उसे दबोचा गया है। चार से पांच दिन तक लगातार जाल बिछाकर उसे फंसाने की कोशिश पीसीपीएनडीटी की टीम और एनएचएम स्टाफ करता रहा। जिसके बाद शुक्रवार को सफलता मिली।

चार बार पकड़ा गया लेकिन सनक नहीं छोड़ी
टीम के सदस्यों ने बताया कि एक गर्भवती महिला को रेड में शामिल करने के लिए काफी प्रयास किए गए। जब एक गर्भवती महिला को डॉक्टर के काले कारनामों के बारे में बताया गया तो उसे सजा दिलाने के लिए वह भी तत्काल तैयार हो गई और उसकी ही मदद से पूरा जाल बुना गया। पीसीपीएनडीटी की टीम ने बताया कि इम्तियाज को पहली बार अक्टूबर 2016 में पकड़ा गया था। उसके बाद मई 2017 में दूसरी, जनवरी 2018 में तीसरी और चौथी बार सितंबर 2019 में गिरफ्तार किया गया था। लेकिन हर बार छूटने के बाद वह फिर से वही काम करने लगता।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

ब्रेकिंग : काजी नजरूल विश्वविद्यालय में विद्यार्थियों पर पुलिस ने किया लाठी चार्ज

आसनसोल: काजी नजरुल विश्वविद्याल्य में सुबह से चल रहे विद्यार्थियों के प्रदर्शन के बाद यूनिवर्सिटी कैंपस में विद्यार्थी धरने पर बैठ गये थे। आरोप है आगे पढ़ें »

ऊपर