रेलवे ने मेल यात्री को फीमेल बताया, अब देना होगा 50 हजार का जुर्माना

जोधपुर: राजस्थान में उपभोक्ता अधिकार से जुड़ा एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां उपभोक्ता संरक्षण आयोग द्वितीय जोधपुर ने रेलवे ने एक बड़ा सबक दिया है। आयोग ने रेलवे के एक यात्री की ओर से पेश की गई शिकायत पर अहम फैसला सुनाया है, जो चर्चा का विषय बना हुआ है। दरअसल रेलवे के कर्मचारी ने इस यात्री की ओर से रिजर्वेशन फार्म में सही एंट्री होने के बावजूद एक यात्री के जेंडर कॉलम में गलती से मेल की जगह फीमेल अंकित कर दिया था।
बड़ी बात यह रही है कि रेलवे कर्मचारी की इस गलती के बावजूद उसके जांच-दस्ते ने यात्री को बेटिकट मानकर उससे पेनल्टी तक वसूल ली थी। इसके बाद इस अन्याय के खिलाफ यात्री ने चुप बैठने के बजाए आवाज उठाई। लिहाजा इसके बाद वर्ष 2009 आयोग में परिवाद दर्ज करा दिया। अब 13 वर्ष बाद आयोग ने इस मामले में उपभोक्ता के पक्ष में फैसला देते हुए रेलवे पर 50 हजार रुपए जुर्माना लगाया है।
ऐसे घटित हुई थी पूरी घटना
मामले के अनुसार भोपालगढ़ निवासी महेश ने 29 सितंबर 2009 को अहमदाबाद से जोधपुर यात्रा के लिये स्वयं, मां और बहन के आरक्षण टिकट के लिए फार्म भरकर दिया था। इस फार्म में रेलवे के बुकिंग कर्मचारी ने टिकट में मां और बहन के साथ उसे भी महिला अंकित कर दिया था। गलती बताने के बावजदू बुकिंग कर्मचारी ने उसमें सुधार नहीं किया। यात्रा की समाप्ति पर जब वह ट्रेन से उतरा तो जोधपुर रेलवे स्टेशन पर उड़न दस्ते ने उसकी टिकट को नहीं माना। उड़न दस्ते ने महेश को बेटिकट यात्री बताकर पुलिस कार्रवाई की धमकी दी। इसके बाद में उससे जबरन 330 रुपये जुर्माना वसूल लिया।
शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

एसएससी के पूर्व सलाहकारों की जमानत अर्जी खारिज

कोलकाता : एसएससी के दो पूर्व सलाहकार शांतिप्रसाद सिन्हा (एसपी सिन्हा) और अशोक साहा 7 दिनों के लिए सीबीआई की हिरासत में रहेंगे। सीबीआई के आगे पढ़ें »

ऊपर