प्रधानमंत्री मोदी को मिले इतने हजार उपहारों की होगी ऑनलाइन नीलामी

modi gift

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मिले 2700 से अधिक उपहारों की 14 सितम्बर से नीलामी की जाएगी। अब लोग घर बैठे मोदी को मिले रंग-बिरंगे, दुर्लभ और अनूठे उपहार खरीद सकेंगे। इन उपहारों में चांदी की तलवार से लेकर प्रधानमंत्री की थ्री डी कलाकृति तक शामिल है। केंद्रीय संस्कृति और पर्यटन राज्य मंत्री प्रह्लाद पटेल ने बुधवार को यहां राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय में इन उपहारों की प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। उन्होंने पत्रकारों को बताया कि मोदी जी को पिछले छह महीने में मिले उपहारों में से 2772 वस्तुओं को ऑनलाइन नीलाम किया जाएगा। बता दें कि यह नीलामी 14 सितम्बर से तीन अक्टूबर तक होगी। नीलामी से मिली राशि का उपयोग नमामि गंगे परियोजना में खर्च की जाएगी।

इतनी होगी उपहारों की कीमत

पटेल ने बताया कि नीलामी के लिए हर वस्तुओं की सुरक्षित कीमत रखी गई है जिसपर बोली लगाई जाएगी। इन उपहारों की बिक्री सुरक्षित मुल्य से कम राशि पर नहीं की जाएगी। उन्होंने बताया कि उपहारों की न्यूनतम सुरक्षित कीमत 500 रूपये और अधिकतम 2.5 लाख रूपये होगी। उपहारों की नीलामी रोज ऑनलाइन चलेगी तथा तीन अक्टूबर के बाद अंतिम कीमतों का पता चल सकेगा। अगर नीलामी में बोली लगाने वाला खरीदार सामान नहीं लेता है तो उस सामान की दोबारा नीलामी होगी।

जनवरी-फरवरी में भी हुई ‌थी नीलामी

बता दें कि इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी के उपहारो की ऑनलाइन नीलामी 22 जनवरी से नौ फरवरी तक की गयी थी जिसमें चार हज़ार बोलीकर्ताओं ने भाग लिया था। हालांकि, सरकार ने इस नीलामी से मिली राशि बताने से मना कर दिया। इस नीलामी में अधिकतम बोली पांच लाख लगी थी जिसमे लकड़ी से निर्मित बी एम डी शामिल है।

इस प्रदर्शनी में विदेशी उपहार शामिल नहीं

श्री पटेल ने बताया कि इस प्रदर्शनी में विदेशी उपहारों को शामिल नहीं किया गया है। प्रदर्शनी में मोदी की करीब 30 पेंटिग फोटो कला कृतियाँ हैं जिनमें एक सिल्क की बनी है जिसकी कीमत 2.5 लाख तय की गयी है। इसके अलावा गाय की कलाकृतियाँ, कृष्ण की कई सुन्दर मूर्तियाँ, चांदी और सोने से मढ़ी तलवारें, पगड़ियां, स्वर्ण मन्दिर, तीर-धनुष, बुद्ध एवं शिवाजी की मूर्तियाँ, अशोक स्तम्भ, विवेकानंद-आंबेडकर की प्रतिमायें, कुल्लू पूर्वोत्तर राज्य की कलाकृतियाँ, तिरुपति का मन्दिर आदि के अलावा सर छोटू राम और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पेंटिंग भी है। इसके अलावा कई तरह के शाल जैकेट और रंग-बिरंगी टोपियाँ भी हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

dilip

शाहीन बाग में कोई प्रदर्शनकारी मर क्यों नहीं रहा है? : दिलीप घोष

कोलकाता : पश्चिम बंगाल के भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष मंगलवार अपने ही बयान से विवाद में घिर गए। घोष ने दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून आगे पढ़ें »

jnu

क्या दिल्ली हिंसा के पीछे भी था शरजील का हाथ? क्राइम ब्रांच करेगी पूछताछ

नई दिल्ली : भारत से उत्तर-पूर्व को अलग करने वाले विवादित बयान के मामले में शरजील इमाम की गिरफ्तारी के बाद भड़काऊ भाषण के साथ आगे पढ़ें »

ऊपर