आगरा का नाम बदलने की तैयारी, सरकार ने इतिहासकारों से मांगे साक्ष्य

Agra- Agravan

आगरा : उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने अब ताज नगरी आगरा का नाम बदलने की तैयारी शुरू कर दी है। इसके पूर्व योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद और फैजाबाद का नाम बदलकर क्रमशः प्रयागराज और अयोध्‍या कर दिया है। अब आगरा जिले का नाम बदलकर अग्रवन ‌किए जाने की संभावना है। इसके लिए सरकार ने अंबेडकर यूनिवर्सिटी को दायित्व सौंपते हुए इतिहास विभाग से नामों से संबंधित सुझाव भेजने तथा आगरा के नाम संबंधी साक्ष्य तलाशने के लिए कहा है। सूत्रों के हवाले से मिल रही खबर के मुताबिक, योगी सरकार ने इससे संबंधित नाम को लेकर इतिहासकारों से भी चर्चा की है।

साक्ष्य जुटाने के प्रयासों में लगी योगी सरकार

इतिहासकारों के अनुसार आगरा का नाम पहले अग्रवन हुआ करता था। अब सरकार वे साक्ष्य जुटाने के प्रयासों में लगी है जिससे यह जानकारी हासिल हो सके कि वे कौन सी परिस्थितियां थीं जिनके तहत अग्रवन का नाम आगरा कर दिया गया था। योगी सरकार द्वारा इलाहाबाद और फैजाबाद के अलावा मुगलसराय स्टेशन का नाम भी बदला जा चुका है। मुगलसराय स्टेशन का नाम बदलकर पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन किया गया है। उल्लेखनीय है कि 1968 में मुगलसराय रेलवे स्टेशन पर दीन दयाल उपाध्याय का मृत देह पाया गया था। इस कारण योगी सरकार ने इस रेलवे स्टेशन के नाम परिवर्तन का फैसला किया। इतना ही नहीं चंदौली जिले का नाम बदलने की रिपोर्ट शासन को भेजी जा चुकी है। हालांकि इस पर अभी कोई फैसला नहीं हुआ है।

आगरावन नाम करने की थी मांग

2017 में उत्तर प्रदेश में सत्ता संभालने के बाद से ही यह नाम परिवर्तन जारी है। ताज नगरी आगरा के ही बीजेपी नेता जगन प्रसाद ने इस शहर के नाम परिवर्तन का मुद्दा उठाया था। उन्होंने राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को चिट्ठी लिखकर आगरावन नाम करने की मांग की थी। उन्होंने लिखा था कि आगरा में काफी वन हैं और महाराजा अग्रसेन के चाहने वाले भी अधिक संख्या में इस शहर में रहते हैं इसलिए शहर का नाम आगरावन होना चाहिए। हालांकि बाद में अग्रवन नाम को लेकर चर्चा होने लगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

afghanistan

अफगानिस्तान में 25 आतंकवादी ढेर, आत्मघाती विस्फोट में आठ जवानो की मौत

अफगानिस्तान : अफगानिस्तान के पूर्वी वारदक प्रांत में सेना के एक अभियान के दौरान कम से कम 25 आतंकवादी मारे गए हैं। गृह मंत्रालय के आगे पढ़ें »

बाहरी लोगों को नागरिकता, 25 साल तक मतदान का अधिकार नहीं -शिवसेना

नई दिल्ली : केंद्रिय गृहमंत्री अमित शाह ने सोमवार को लोकसभा में नागरिकता संशोधन बिल पेश कर दिया है। इस बिल को लेकर देशभर में आगे पढ़ें »

ऊपर