नेग के लिए गर्भवती का प्रसव रोका, गर्भ में बच्चे की मौत

नेग के बदले परिजनों ने दी कान की बाली, फिर कराया प्रसव
लातेहारः
 लातेहार जिले से मानवता को कलंकित करने वाली एक खबर सामने आई है। जहां अस्पताल के कर्मचारियों ने 18000 रुपये नेग के लिए पांच घंटे तक एक गर्भवती महिला का प्रसव रोक दिया। आखिर में महिला के परिजनों ने कान की बाली निकाल कर दी। इसके बाद महिला का प्रसव कराया, लेकिन गर्भ में ही बच्चे की मौत हो चुकी थी। इस घटना के बाद महिला के परिजनों ने आरोपी कर्मियों के खिलाफ पुलिस में तहरीर दी है। पुलिस ने इनके खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। मामला लातेहार जिले के हेरहंज प्रखंड मुख्यालय स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का है।पांच घंटे तक दर्द से तड़पती रही गर्भवतीः परिजनों ने बताया कि प्रसव पीड़ा शुरू होने के बाद महिला को अस्पताल ले जाया गया था। वह दर्द से तड़प रही थी। बावजूद इसके लालच के वशीभूत अस्पताल के कर्मचारियों ने उसका प्रसव रोक दिया। परिजनों ने बताया कि यदि समय रहते प्रसव कराया गया होता तो उनके बच्चे की जान बच गई होती।हंगामे की सूचना पर प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी सुरेश राम और बीडीओ प्रदीप कुमार दास मौके पर पहुंचे। इन्होंने पीड़ित परिवार से बात करने के बाद दोनों नर्सों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। उधर, परिजनों की तहरीर पर पुलिस ने केस दर्ज किया है।

 

Visited 397 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

सिर्फ गर्दन का व्यायाम हमें इतने रोगों से रख सकता है दूर

कोलकाता : रीढ़ की हड्डी को कशेरूक दंड या मेरूदंड कहा जाता है। इससे समस्त कंकाल को सहारा मिलता है। रीढ़ की हड्डी या मेरूदंड आगे पढ़ें »

गुरुवार के दिन विष्णु भगवान की करें पूजा, इन 3 बातों को रखें ध्यान

नई दिल्ली: गुरुवार के दिन का हिंदूओं में विशेष महत्व है। गुरुवार के दिन भगवान विष्णु और देवताओं के गुरु बृहस्पति देव की पूजा होती आगे पढ़ें »

ऊपर