रेप पीड़‍िता ने कहा- मैं 5 महीने की प्रेग्नेंट हूं लेक‍िन नहीं पता क‍ि बच्चा किसका

उत्तर प्रदेश : यूपी के अमरोहा जिले से ऐसा मामला सामने आया जिसको सुन किसी का भी दिल पसीज जाए। एक रेप पीड़‍िता युवती और उसका परिवार 4 दिन से एसपी के दफ्तर के चक्कर लगा रहा है लेकिन पुलिस के कान पर जूं तक नहीं रेंग रही है। पीड़िता ने बताया कि मैं 5 माह की गर्भवती हूं लेकिन मुझे नहींं पता कि इस बच्चे का पिता कौन है? मैं पुलिस के चक्कर लगा रही हूं लेकिन कोई हमारी बात नहींं सुन रहा है। पीड़िता ने बताया कि मेरा अपहरण हो गया था। मुझे सुशीला, इसराइल और कपिल गुर्जर तीनोंं लोग 6 महीने पहले ले गए थे। 4 दिन तक मेरे साथ उल्टे-सीधे काम किए गए और मेरी बेइज्जती की, वीडियो बनाया और उसे वायरल करने की धमकी देते रहे। चाकू-तमंचा रखकर डराते और कहते कि हम जैसा कहते हैं, वैसा कर, नहींं तो तेरे भाइयों को मार देंगे। 4 दिन बाद पीड़िता को मंसूरपुर के पास जीवना गांव में 3 लाख रुपये में चार लोगों के हवाले कर दिया गया। उन लोगों ने पीड़िता को 3-4 महीने अपने पास रखा और उसके साथ गलत काम किया। इसके बाद सुशीला, इसराइल और कपिल पीड़िता को वापस अपने पास ले आए और 2 महीने तक अपने साथ ही रखा। इसके बाद सुशीला ने पीड़िता के मोहल्ले के 3 लोगों को उसके पास छोड़ दिया और सभी ने पीड़िता के साथ गलत काम किया। इनमेंं से एक आदमी बाबू को पीड़िता जानती भी है। इसके बाद मौका पाकर पीड़िता रातों-रात भाग कर अपने घर पहुंची और घरवालों को सारी घटना बताई। पीड़िता ने हसनपुर थाने में शिकायत की लेकिन वहां कोई सुनवाई नहींं हुई। इसके बाद अमरोहा आए तो यहां भी कोई सुनवाई नहींं कर रहा। 4 दिन से अमरोहा के चक्कर लगा रहे हैं लेकिन अभी पता नहींं है कि क्या हो रहा है। कपिल, इसराइल मारने की धमकी दे रहे हैं, घर पर चढ़ाई कर के तमंचे से डराते हैं, कहते हैंं क‍ि मुकदमा वापिस ले लो, नहीं तो गोली से मार देंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

शिवसेना पश्चिम बंगाल में नहीं लड़ेगी चुनाव, तृणमूल को दिया समर्थन

बंगाल इकाई ने अलग किये रास्ते तृणमूल ने किया शिव सेना के फैसले का स्वागत कोलकाता : राष्ट्रीय जनता दल और समाजवादी पार्टी के बाद शिव सेना आगे पढ़ें »

ईसीएल ने 500 टन कोयला चोरी का पता लगाया था लेकिन कार्रवाई नहीं हुई

कोयला तस्करी मामले में रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों से सीबीआई ने की घंटों पूछताछ कोलकाता : ईस्टर्न कोलफिल्ड्स लिमिटेड (ईसीएल) के सतर्कता दल ने शिल्पांचल की आगे पढ़ें »

ऊपर